सद्गुरुजी

आदमी चाहे तो तक़दीर बदल सकता है, पूरी दुनिया की वो तस्वीर बदल सकता है, आदमी सोच तो ले उसका इरादा क्या है?

530 Posts

5737 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15204 postid : 577711

महापुरुषों के बताये हुए श्रेष्ठ मार्ग पर चलें

Posted On: 8 Aug, 2013 Religious में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आज हमारे पास देश को भ्रष्टाचार से मुक्त करने का बस यही उपाय शेष बचा है की देश के हर व्यक्ति और हर राजनीतिज्ञ को आध्यात्म से जोड़ा जाये और देश में आध्यात्मिक राजनीती की शुरुआत हो.सरकारी खर्चों में कटोती की जाये.पहले के नेता जैसे डॉ राजेंद्र प्रसाद,श्री लाल बहादुर शास्त्री.श्रीमती इंदिरा गाँधी और वर्तमान में राजनीती से सन्यास ले चुके श्री अटल बिहारी वाजपेयी इन महान व् त्यागी नेताओं ने देश को नई दिशा दी और विकास का रास्ता दिखाया.देश का सम्मान सारी दुनिया में बदाया.इन नेताओं में त्याग की प्रवृति थी और देश के लिए हमेशा बड़े काम करने की दृढ इच्छाशक्ति थी.पहले के कई नेताओं की जीवनी में इस बात का बहुत मार्मिक वर्णन है की वे अपने लिए नया कपडा व् नया जूता खरीदने तक से बचते थे और पुराने वस्त्र व् जूते से काम चलते थे.सरकारी खर्चों में कटोती कर उन्होंने पैसे बचाकर देश में बड़े बड़े कारखाने स्थापित किये और लोखों लोगों को रोजगार दिया.आज देश के नेताओं में लोभ लालच बढ़ रहा है.देश के विकास की बजाय अपने स्वार्थो की पूर्ति पर ज्यादा ध्यान है.सभी धार्मिक ग्रन्थ और सभी संत महापुरुष यही कहतें है की दुनिया से आप कुछ ले नहीं जा सकते.एक दिन सब यहीं धरा रह जायेगा.आप जिसे अपना सबकुछ दें जायेंगे वो भी उसका सदुपयोग करेगा या दुरपयोग,पता नहीं.हमारे नेता देश में कई नए BHU और कई नए DLW बनायें जिससे लाखों लोगों को फायदा हो,बहुत से बेरोजगारों को रोजगार मिले,और उनका नाम भी इतिहास में सदैव अमर रहे.जीवन का सर्वश्रेष्ठ मार्ग क्या है?धर्मग्रंथ इसका उत्तर देतें हैं-महाजनों येन गत:स पन्था:अर्थात जिस प्रकार का श्रेष्ठ कर्म करके महापुरुष इस संसार से गयें हैं आप भी उसी प्रकार का श्रेष्ठ कर्म करें और महापुरुषों के बताये हुए श्रेष्ठ मार्ग पर चलें.तभी लौकिक और पारलौकिक दोनों कल्याण संभव है.(सद्गुरु राजेंद्र ऋषिजी प्रकृति पुरुष सिद्धपीठ आश्रम ग्राम-घमहापुर पोस्ट-कन्द्वा जिला-वाराणसी पिन-२२११०६)



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

amarsin के द्वारा
August 12, 2013

बिलकुल सही बात…. देश के हर व्यक्ति और हर राजनीतिज्ञ को आध्यात्म से जोड़ा जाये और देश में आध्यात्मिक राजनीती की शुरुआत हो…

सद्गुरुजी के द्वारा
September 21, 2013

आपने मेरे लेख को पढ़ा और उसे सराहा,आप ने लेख के सम्बन्ध में अपने विचार व्यक्त किये,इसके लिए मै आपको ह्रदय से धन्यवाद देता हूँ


topic of the week



latest from jagran