सद्गुरुजी

आदमी चाहे तो तक़दीर बदल सकता है, पूरी दुनिया की वो तस्वीर बदल सकता है, आदमी सोच तो ले उसका इरादा क्या है?

529 Posts

5725 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15204 postid : 738962

झूठ और फरेब से भरे केजरीवाल के चुनावी हथकंडे

  • SocialTwist Tell-a-Friend

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
indexgggg
झूठ और फरेब से भरे केजरीवाल के चुनावी हथकंडे
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

मैं जिस घंमहापुर गांव में रहता हूँ,वो वाराणसी के शहरी इलाके चितईपुर से सिर्फ दो किलोमीटर दूर होगा.यहाँ पर घर घर में मोदीजी की चर्चा है,खासकर नौजवान पीढ़ी मोदीजी से बेहद प्रभावित है.गांव में भाजपा के कार्यकर्ता आते ही नहीं हैं,जबकि आप के कार्यकर्ता दिन में कई बार आते हैं.दो तीन लोगों को बरगलाकर उनके घरों की छत पर केजरीवाल का चुनाव निशान झाड़ू फहरा दिया है.केजरीवाल ने वो सारे चुनावी हथकंडे अपना रखें हैं,जो झूठ और फरेब पर आधारित हैं.वो किसी बुद्धिजीवी की तरह या आदर्श राजनेता की तरह से चुनाव नहीं लड़ रहे हैं,बल्कि एक भ्रष्ट और घाघ नेता की तरह से चुनाव लड़ रहे हैं,जो झूठ और फरेब के मामले में सबसे आगे है.
अपने को गरीब कहने वाले केजरीवाल ने इस चुनाव में पानी की तरह से रुपया बहाया हैं.रूपये लेकर केजरीवाल का चुनाव प्रचार करने वाले कार्यकर्ता दस बीस नाबालिग बच्चों को कुछ खाने पीने का लालच देकर अपने साथ ले लेते हैं और दिन में कई बार गांव में घूमकर नारा लगते हैं-” पैसे पे न दारू पे,मोहर लगेगी झाड़ू पे.” बहुत से अनपढ़ गांव वालों को जब ये अपनी झूठी बातो से समझा नहीं पाते हैं तो कहते हैं कि-” मोदीजी को ही वोट दो,लेकिन याद रखना उनका उनका चुनाव निशान झाड़ू है.”एक आप का कार्यकर्ता एक किसान के परिवार को समझा रहा हैं-मोदी जीत गए तो यहाँ फैक्ट्री लगाएंगे और तुम्हारी जमीन एक रुपया बिस्सा के हिसाब से बेच देंगे.
वो गुजरात में यही काम किये थे.”जब उसकी बातों से लोग सहमत नहीं होतें हैं तो वो धर्म के नाम पर भड़काना शुरू कर देता है कि-”भाजपा वाले वादा करके भी राम का मंदिर नहीं बनाये.वो झूठे हैं.”जब किसान का परिवार साफ कह देता है कि-” वो लोग मोदी को ही वोट देंगे और मोदी ही कशी से जीतेंगे.” तब झल्लाकर वहां से जाते हुए आप का सिखाया पढ़ाया कार्यकर्ता कहता है कि-”जाओ दो वोट मोदी को..तुमलोगो के मोदी सोलह तक ही चुनाव जीतेंगे,उसके बाद हम जीतेंगे.मोदी तुम्हारे गांव से हार रहे हैं कंदवा से हार रहें हैं,चितईपुर से हार रहे हैं.”वो ऐसी बात कर रहा है ,जैसे सभासदी या प्रधानी का चुनाव हो रहा हो,जो छोटे से क्षेत्र पर आधारित होता है.
केजरीवाल अपनी हर सभा में मोदीजी पर ये झूठा आरोप लगते हैं कि गुजरात में किसानों से जबरन जमीन लेकर कॉर्पोरेट्स को दी जा रही है.केजरीवाल का यह झूठा प्रोपगैंडा है.गुरत में किसानी से जबरन जमीन नहीं ली गई, मार्केट की कीमतों के आधार पर उन्हें मुआवजा मिला है.इस मामले में सबसे बड़ी सच्चाई ये है कि मोदी शासन में कॉर्पोरेट्स को दी गई जमीन मुख्यतः बंजर या चारागाह ह,वो किसानों की खेती की जमीन नहीं है.केजरीवाल मोदीजी पर दूसरा झूठा आरोप लगाते हैं की गुजरात में ५,८७४ किसानों ने पिछले दस साल में फसल बर्बाद होने से आत्महत्या कर ली.जबकि सच्चाई ये है कि गुजरात में पिछले दस साल में फसल खराब होने के कारण आत्महत्या का केवल एक केस है,जबकि अन्य राज्यों में ये संख्या अधिक है.
केजरीवाल मोदीजी के खिलाफ तीसरा झूठा आरोप ये लगते हैं कि रिटेल में एफडीआई पर बीजेपी की नीति छोटे किराना शॉप को खत्म कर देगी.इस बारे सच्चाई ये है कि बीजेपी शुरू से ही मल्टि-ब्रैंड रिटेल में एफडीआई के खिलाफ रही है.बीजेपी की नीति छोटे किराना शॉप को सुरक्षा देने की है.इस मामले में केजरीवाल पूरी तरह से झूठ बोलक रहे हैं.केजरीवाल आरोप लगते हैं कि मोदी के शासनकाल में गुजरात में साथ हजार स्मॉल सेक्टर इंटस्ट्री यूनिट्स बंद हो गए.उनका यह आरोप भी सरासर झूठ है.इस मामले में सच्चाई ये है कि गुजरात राज्य के ५.०१ लाख स्मॉल और मीडियम इंडस्ट्रियल यूनिट्स में से ९५ फीसदी अच्छे ढंग से और फायदे में काम कर रहे हैं.
काशी में चुनाव जीतने के लिए केजरीवाल हिन्दू और मुसलमानो को भड़काने का काम कर रहे हैं.हिंदू बाहुल्य क्षेत्रों में उन्हें प्रबल विरोध का सामना करना पड़ रहा है,इसका कारण ये है कि केजरीवाल ख़बरों में बने रहने के लिए चुनाव प्रचार के दौरान ऐसे घटिया हथकंडे अपना रहे हैं,जिससे हिन्दू जनता उत्तेजित हो.वो लाखों मोदीजी के समर्थकों को यानि काशी की जनता को ‘गुंडों की सेना’ कह रहे हैं.ऐसे व्यक्ति को काशी की जनता लोकसभा के चुनाव में बुरी तरह से हराकर सबक सिखाएगी.यही वजह है कि डिप्टी एसपी एलआइयू कि और से उनके खिलाफ रिपोर्ट भेजी गई है.वाराणसी में अरविंद केजरीवाल को अपनी हार साफ दिखाई दे रही है,इसीलिए अपने ऊपर कभी अंडे फिकवाने का तो कभी हमला करने का नाटक रचते हैं,ताकि लोंगो की सहानुभूति बटोर सकें.वो काशी से जीत के न सही लोगों की सहानुभूति ही ले के जाना चाहते हैं.
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
आलेख और प्रस्तुति=सद्गुरु श्री राजेंद्र ऋषि जी,प्रकृति पुरुष सिद्धपीठ आश्रम,ग्राम-घमहापुर,पोस्ट-कन्द्वा,जिला-वाराणसी.पिन-२२११०६.
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (14 votes, average: 4.93 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

sadguruji के द्वारा
May 10, 2014

.वाराणसी में अरविंद केजरीवाल को अपनी हार साफ दिखाई दे रही है,इसीलिए अपने ऊपर कभी अंडे फिकवाने का तो कभी हमला करने का नाटक रचते हैं,ताकि लोंगो की सहानुभूति बटोर सकें.वो काशी से जीत के न सही लोगों की सहानुभूति ही ले के जाना चाहते हैं.

sadguruji के द्वारा
May 10, 2014

केजरीवाल ने वो सारे चुनावी हथकंडे अपना रखें हैं,जो झूठ और फरेब पर आधारित हैं.वो किसी बुद्धिजीवी की तरह या आदर्श राजनेता की तरह से चुनाव नहीं लड़ रहे हैं,बल्कि एक भ्रष्ट और घाघ नेता की तरह से चुनाव लड़ रहे हैं,जो झूठ और फरेब के मामले में सबसे आगे है.


topic of the week



latest from jagran