सद्गुरुजी

आदमी चाहे तो तक़दीर बदल सकता है, पूरी दुनिया की वो तस्वीर बदल सकता है, आदमी सोच तो ले उसका इरादा क्या है?

529 Posts

5725 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15204 postid : 659892

मोदी जी अब आप सिर्फ विकास के कार्य करते जायें

  • SocialTwist Tell-a-Friend

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
1003726_495613680513758_1520216901_n
मोदी जी अब आप सिर्फ विकास के कार्य करते जायें
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

सभी लोग जानते हैं कि जम्मू-कश्मीर को तात्कालीन प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू जी के विशेष प्रयास से ही संविधान के अनुच्छेद 370 के अंतर्गत विशेष राज्य का दर्जा मिला.भारत के संविधान द्वारा जम्मू-कश्मीर राज्य को विशेष राज्य का दर्जा दिए जाने के मुद्दे पर जम्मू की ललकार रैली में बोलते हुए भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी जी ने कहा कि-”अनुच्छेद 370 को समाप्त करने की बजाय इस पर बहस कराई जानी चाहिए.अगर वाकई में इससे राज्य को फायदा हो रहा है तो भाजपा इसे जारी रखने के पक्ष में है.हम जम्मू-कश्मीर को अलग नहीं बल्कि सुपर स्टेट बनाना चाहते हैं.”मोदी जी का ये बयान ये संकेत करता है कि जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा दिए जाने के मुद्दे पर भाजपा की विचारधारा अब बदल रही है.पहले भाजपा का विचार था कि संविधान के अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू-कश्मीर को मिला विशेष राज्य का दर्जा ही कश्मीर समस्या का मूल कारण है.
यही वजह है कि पछले कई वर्षों से भाजपा कहती चली आ रही है कि केंद्र की सत्ता में बहुमत से आने पर वो संविधान के अनुच्छेद 370 को समाप्त कर देगी.जम्मू-कश्मीर को मिला विशेष दर्जा जम्मू -कश्मीर की समस्याओं को हल तो नहीं कर पाया,हाँ देश के शेष राज्यों से और यहाँ तक की भारत से भी अलग जम्मू-कश्मीर की एक विवादित पहचान जरुर कायम कर दिया है.
जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा मिलने से देश का सबसे बड़ा नुकसान ये हुआ है कि देश में अलगाववाद की बीमारी न सिर्फ जम्मू-कश्मीर में बल्कि बल्कि देश के कई अन्य राज्यों में भी फ़ैल गई है.जम्मू-कश्मीर के कई मुस्लिम कट्टरपंथी नेताओं ने और वहाँ के अलगाववादियों ने अनुच्छेद 370 का नाजायज फायदा उठाकर ही भारत पाकिस्तान से अलग होकर कश्मीर को एक स्वतंत्र देश बनाने की मांग कर दी.जब मै जम्मू-कश्मीर में रहकर बीए कर रहा तब की बातें मुझे याद हैं.उस समय अपने कालेज के सहपाठियों से जरा सा भी वाद-विवाद होता था तो वहाँ के स्थानीय निवासी तुरंत बोल पड़ते थे-”जनाब,ये आप का हिंदुस्तान नहीं है.ये हमारा आज़ाद कश्मीर है.आप लोगों ने तो जबर्दस्ती कब्ज़ा कर रखा है.”उनकी बातें बहुत खराब तो लगतीं थीं,परन्तु चारो ओर आँखों से देखने पर हर जगह सेना दिखाई देती थी.जम्मू-कश्मीर के विकास के लिए भारत सरकार ने पानी की तरह पैसा बहाया है.अलगाववादियों और कट्टरपंथी मुस्लिम आतंकवादियों से लड़ने में सेना के जवानो ने अपना लहू बहाया है.इतना सब करके भी हम जम्मू-कश्मीर के सभी लोगों को खुश नहीं कर सके.बहुत से लोग अब पूर्ण स्वतंत्रता यानि देश से अलग होने की बात करते हैं,जो कि हमारे देश की नज़र में देश द्रोह है.
देश को क्या मिला है इतना सब करके ? दूसरे राज्य के लोग वहाँ बस नहीं सकते और जो हिन्दू वहाँ के मूल निवासी होकर वहाँ बसे थे ,उनकी स्थिति बाद से बदतर होती जा रही है.केवल जम्मू क्षेत्र में ही बहुसंख्यक होने के कारण हिंदुओं कि स्थिति ठीक है,वर्ना कश्मीर में तो कश्मीर के मूल निवासी कश्मीरी पंडितों को मुस्लिम कट्टरपंथी आतंकवादियों ने जिस तरह से लूटकर और उनकी बहन-बेटियो को अपमानित कर कश्मीर से बाहर भगाया है,वो एक काला अध्याय है,जो कश्मीर वादी के अल्पसंख्यक हिंदुओं को कभी भुलाये नहीं भूलेगा.उन्हें इतना अपमान और दर्द मिला है कि उनके आंसू जीवन भर नहीं सूखेंगे.धरनिरपेक्षता का पाठ सिर्फ हिंदुओं को ही पढ़ाने वाले स्वार्थी नेता क्या इधर भी कभी नज़र उठा के देखेंगे ? जम्मू-कश्मीर में जहाँ पर अलगाववाद पूरे राजनीतिक और सामाजिक समूचे सिस्टम पर हावी हो चूका है,ऐसे खराब माहौल में आप अनुच्छेद 370 को हटाने की बात सोच भी नहीं सकते हैं.मोदी जी की यदि दिलचस्पी है तो वो इस मुद्दे पर जम्मू-कश्मीर में बहस कराकर देख लें,उन्हें सच्चाई पता चल जायेगी.इस बहस से अलगाववाद को ही हवा मिलेगी.
मै भाजपा और पीएम नरेंद्र मोदी जी से यही आग्रह करूँगा कि वो देश के विवादित मुद्दों जैसे-अनुच्छेद 370,सबके लिए एक समान नागरिक संहिता और अयोध्या में श्री राम मंदिर का निर्माण आदि को भूल जाएँ और विकास की बात करें.भारत के विकसित देश बन जाने पर ये मुद्दे खुद-बखुद आसानी से हल हो जायेंगे.आप जनता से वो सब कहें जो सत्ता में आने पर आसानी से कर सकते हैं.आज मोदी जी गुजरात के विकास के लिए सारी दुनिया में प्रसिद्द हो गये हैं,गांव-देहात के लोग जिनसे मेरी मुलाकात होती है वो भी आप के विकास कि बात से ही प्रभावित हैं और आम आदमी एक सपना संजोया है कि सत्ता में आने के बाद आप उनकी फटेहाल जिंदगी बदलकर उसे बेहतर बना देंगे,इसीलिए उसने देश की सत्ता पूर्ण बहुमत के साथ आपको सौपी है.मोदी जी आप विकास की बात कीजिये और विकास के कार्य करते जाइये.आप विकास के प्रेमी हैं अत:विवादित और जल्दी हल न होने वाले मुद्दों की बजाय स्विटरज़रलैंड की और देखिये जो अपने सभी नागरिकों को बिना किसी धर्म-जाति और अमीरी-गरीबी के भेदभाव के बिना शर्त प्रतिमाह “बेसिक इनकम” यानि “आराम से गुजारा करने भर का पैसा” लगभग २५०० फ्रैंक देने जा रही है,इसको कहते हैं विकास.देश को वहाँ तक ले जाने की सोचिये ताकि भारत में भी ये सपना सच हो सके.अत: अब आप सिर्फ विकास के कार्य करते जाइये.!! जय हिन्द !! !! वन्दे मातरम !!
(ये लेख ४ दिसम्बर सन २०१३ को प्रकाशित हुआ था.वर्तमान समय में भी इस लेख की महती प्रासंगिकता के कारण बहुत मामूली सा संशोधन करके पुन: प्रकाशित किया गया है)
अंत में=भव्य,शानदार और अविस्मरणीय शपथ ग्रहण समारोह ! सारी दुनिया ने टीवी पर देखा और मैंने भी देखा ! सारी दुनिया मोदी जी को बधाई दे रही है ! परन्तु अब मैं उन्हें पांच साल बाद पुन: प्रधानमंत्री बनने पर बधाई दूंगा ! जब वे अपने सारे चुनावी वायदे पूरे कर पुन: भारी बहुमत से जीतकर आएंगे !
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
सद्गुरु श्री राजेंद्र ऋषि जी,प्रकृति पुरुष सिद्धपीठ आश्रम,ग्राम-घमहापुर,पोस्ट-कंदवा,जिला-वाराणसी.पिन-२२११०६.
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (15 votes, average: 4.93 out of 5)
Loading ... Loading ...

8 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

ranjanagupta के द्वारा
December 4, 2013

बहुत ज्ञान वर्धक आलेख ! बहुत बहुत बधाई ,अलग अलग विषयों पर लेखनी की सफल प्रस्तुति के लिए ! ,सद्गुरु जी !!

ranjanagupta के द्वारा
December 4, 2013

बहुत बहुत बधाई !सद्गुरु जी !विभिन्न विषयों पर सफल प्रस्तुति हेतु !!

ranjanagupta के द्वारा
December 4, 2013

बधाई सद्गुरु जी !विषयान्तर सभी सफल आलेख हेतु !सद्भावनाएँ!!

Imam Hussain Quadri के द्वारा
December 4, 2013

आपकी एक एक बात बहुत ही सुन्दर हैं और मैं दावा करता हूँ के ये लोग ज़ात पात धर्म कि राजनीति बंद कर दें तो सभी के दिल में रहेंगे मगर ये बदल जायेंगे तो इतनी पार्टी चलेगी कैसे सबका हथियार तो यही आरोप और अलगाववाद कि निति है धन्यवाद आपका .

sadguruji के द्वारा
December 4, 2013

आदरणीय डॉक्टर रंजना गुप्ता जी,प्रात: ४.४५ मिनट.आप को नई सुबह की बधाई.कोई सत्ता है,जो मुझसे लिखवा लेती है,क्योंकि आँख बंद करके देखता हूँ तो कोई ज्ञान नज़र नहीं आता है.आप का ह्रदय से आभार.

sadguruji के द्वारा
December 4, 2013

आदरणीय डॉक्टर रंजना गुप्ता जी,आप का बहुत बहुत धन्यवाद.

sadguruji के द्वारा
December 4, 2013

आदरणीय डॉक्टर रंजना गुप्ता जी,आप का बहुत बहुत धन्यवाद.कभी कभी विषयांतर भी अच्छा लगता है.हालाँकि सच बहुत कड़वा होता है.किसी पार्टी विशेष से मेरा कोई लेना देना नहीं है,जो मन में उतर आया कह देता हूँ.

sadguruji के द्वारा
December 4, 2013

आदरणीय इमाम हुसैन कादरी जी,शुभ प्रभात ! आप का ह्रदय से धन्यवाद.मुझे लगता है कि पूरी तरह से ये लेख आप को पसंद नहीं आया होगा.इस लेख का आधार मै आप को बता दूँ.मेरे पिताजी सेना में अधिकारी थे,इसीलिए हम लोग सपरिवार जम्मू-कश्मीर में तीन साल रहे.वहाँ बीए पढ़ते हुए और रहते हुए जो मैंने देखा,वही बयान किया है.रही बात पार्टियों कि तो किसी पार्टी से कोई लेना देना नहीं है.मै केवल इस देश का नागरिक होने के नाते उन्हें सलाह देता हूँ,चाहे वो माने या न माने.यदि मानेंगे तो जनता का भला होगा.


topic of the week



latest from jagran