सद्गुरुजी

आदमी चाहे तो तक़दीर बदल सकता है, पूरी दुनिया की वो तस्वीर बदल सकता है, आदमी सोच तो ले उसका इरादा क्या है?

511 Posts

5631 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15204 postid : 1107783

हिंदी फ़िल्मी गीतों का दार्शनिक अंदाज- भाग १- जागरण मंच

  • SocialTwist Tell-a-Friend

हिंदी फ़िल्मी गीतों का दार्शनिक अंदाज- भाग १- जागरण-मंच

हिंदी फिल्मों के गीत हमारे देश में ही नहीं बल्कि दुनिया के कई देशों में सुने जाते हैं. भारत में आम जनता के मनोरंजन का ये सबसे बड़ा साधन है. बहुत से हिंदी फ़िल्मी गीत मनोरंजन के साथ-साथ आदमी के मन की गहराइयों में इतने भीतर तक उतर जातें हैं कि उसे अच्छा सोचने और जीवन में बहुत कुछ अच्छा करने पर मजबूर कर देतें हैं. अपने विद्यार्थी जीवन में भी मुझे अपनी पसंद के फ़िल्मी गीतों को बार-बार सुनने का शौक था.

मेरे स्कूल के गुरुजन हिंदी फ़िल्मी गीतों के घोर विरोधी थे. वे कहते थे कि हिंदी फिल्मों के गीत अर्थहीन होते हैं और उन्हें सुनना अपने जीवन का कीमती समय बर्बाद करना है. मै अपने श्रद्धेय गुरुजनों की इस बात से तब भी सहमत नहीं था और आज भी सहमत नहीं हूँ. कुछ ऐसे हिंदी फ़िल्मी गीत हैं, जिनके अंदाज दार्शनिक हैं, और जिन्हें सुनने से मनोरंजन के साथ-साथ शिक्षा भी मिलती है. अपनी पसंद के कुछ ऐसे ही फ़िल्मी गीतों पर मै बहुत दिनों से चर्चा करना चाह रहा था. कई दिनों की खोज-बीन के बाद आज मै अपनी पसंद प्रस्तुत कर रहा हूँ.

संसार में लोग कहाँ से आतें हैं और मरने के बाद कहाँ चले जाते हैं? यह सवाल धर्मग्रंथों का मूल विषय रहा है और दार्शनिकों ने भी इस गूढ़ विषय पर बहुत सोच-विचार किया है. फिल्म जगत के बहुचर्चित गीतकार गीतकार साहिर लुधियानवी जी को मैं एक बहु अच्छा दार्शनिक मानता हूँ. वो आज इस दुनिया में नहीं हैं, परन्तु उनका शाश्वत और व्यावहारिक दर्शन आज भी उनके द्वारा रचित साहित्य और उनके द्वारा लिखित हिंदी फ़िल्मी गीतों के रूप में हमारे बीच मौजूद है. हिंदी फिल्म “धुंध” में गीतकार साहिर लुधियानवी क्या खूब जीवन का फलसफा लिखतें हैं-
dhund4
संसार की हर शय का इतना ही फ़साना है
एक धुँध से आना है, एक धुँध में जाना है
ये राह कहाँ से है, ये राह कहाँ तक है
ये राज़ कोई राही समझा है न जाना है

जीवन जितना बड़ा सत्य है मृत्यु भी उतना ही बड़ा सत्य है. मृत्यु के बाद जीवन है की नहीं? और मृत्यु के बाद लोग कहाँ चले जाते हैं?.ये प्रश्न जबसे दुनिया बनी है, तबसे एक अनुत्तरित प्रश्न की तरह इस संसार में मौजूद है. गीतकार आनंद बक्षी का लिखा फिल्म “पुष्पांजली” का गीत है-
maxresdefault
दुनियाँ से जानेवाले, जाने चले जाते हैं कहाँ
कैसे ढूँढे कोई उन को, नही कदमों के भी निशान
जाने हैं वो कौन नगरीया, आये जाये खत ना खबरीयां
आये जब जब उन की यादें, आये होठों पे फरियादें
जा के फिर ना आनेवाले, जाने चले जाते हैं कहाँ

दुनिया में चारों तरफ सही या गलत ढंग से पैसा कमाने की होड़ लगी हुई है. सब जानते हैं कि संसार से कुछ ले नहीं जा सकते हैं. संसार से कुछ ले जाने का नियम होता तो अब तक ये दुनिया खाली हो गई होती. आदमी तो वो मुसाफिर है जो खाली हाथ संसार से जाता है और संसार से जाने के बाद सिर्फ अपनी अच्छी-बुरी यादें छोड़ जाता है. यही दार्शनिक भाव लिए हुए गीतकार आनंद बक्षी का लिखा हुआ फिल्म “अपनापन” का ये गीत है-
imagesfdf
आदमी मुसाफिर है, आता है, जाता है
आते जाते रस्तें में, यादें छोड जाता है
क्या साथ लाये, क्या तोड़ आये
रस्तें में हम क्या क्या छोड आये
मंजिल पे जा के याद आता है

हमें जो जिन्दगी मिली है वो क्या है और इस जिन्दगी का सार क्या है? इस सवाल का जबाब इस गीत में है. गीतकार संतोष आनंद का लिखा हुआ फिल्म “शोर” का ये गीत है-
imagesfgf
एक प्यार का नगमा है, मौजो की रवानी है
जिन्दगी और कुछ भी नहीं, तेरी मेरी कहानी है
कुछ पाकर खोना है, कुछ खोकर पाना है
जीवन का मतलब तो, आना और जाना है
दो पल के जीवन से, एक उम्र चुरानी है

जीवन एक लम्बा सफ़र है जो हमारे शाश्वतधाम यानि परमात्मा से शुरु होता है और संसार में विचरण करते हुए फिर वापस परमात्मा के पास पहुंचकर समाप्त होता है. सकारात्मक सोच वाले लोग जिन्दगी को एक सुहाना सफ़र समझते हैं. वो एक दिन निश्चित रूप से आने वाली मृत्यु और आने वाले अज्ञात कल को लेकर परेशान नहीं होते हैं. गीतकार हसरत जयपुरी ने फिल्म “अंदाज” में यही सत्य भाव दर्शाते हुए ये बहुत लोकप्रिय गीत लिखा है-
1280x720-FlI
जिंदगी एक सफ़र हैं सुहाना
यहा कल क्या हो किस ने जाना
मौत आनी हैं, आयेगी एक दिन
जान जानी हैं, जायेगी एक दिन
ऐसी बातों से क्या घबराना

जीवन के सफ़र में कब क्या अच्छा-बुरा घटित होने वाला है, इसे लेकर सारी दुनिया परेशान है. इस सवाल का जबाब पाने को आम जनता, ज्योतिषी और दार्शनिक सब अपने-अपने अंदाज में सोचते विचारतें हैं और अँधेरे में तीर चलातें हैं. सच बात तो ये है की ईश्वर के अलावा कोई नहीं जानता की क्या होने वाला है. गीतकार इन्दीवर का लिखा फिल्म “सफ़र” का ये गीत मुझे बहुत पसंद है-

hqdefault

जिन्दगी का सफ़र, हैं ये कैसा सफ़र
कोई समझा नहीं, कोई जाना नहीं
है ये कैसी डगर, चलते हैं सब मगर
कोई समझा नहीं, कोई जाना नहीं
जिन्दगी को बहुत प्यार हम ने किया
मौत से भी मोहब्बत निभायेंगे हम
रोते रोते जमाने में आये मगर
हंसते हंसते जमाने से जायेंगे हम
जायेंगे पर किधर, हैं किसे ये खबर
कोई समझा नहीं, कोई जाना नहीं

जिन्दगी सबके लिए एक पहेली है. हर इन्सान अपने जीवन की पहेली को सुलझाने में व्यस्त है. वो खुशनसीब लोग हैं जो अपने जीवन की पहेली को सुलझा पातें हैं. ज्यादातर लोग इस पहेली में बुरी तरह से उलझकर संसार से विदा हो जाते हैं. यही दार्शनिक अंदाज लिए हुए गीतकार योगेश का ये गीत फिल्म आनंद का है-
indexhghg
जिंदगी, कैसी हैं पहेली हाये
कभी तो हंसाये, कभी ये रुलाये
जिन्हों ने सजाये यहा मेले
सुख दुख संग संग झेले
वही चुनकर खामोशी
यूँ चले जाये अकेले कहाँ

फिल्मों में रिटेक होता है यानि किसी कलाकार का अभिनय नहीं पसंद आया तो फिर से उससे दुबारा अभिनय कराया जाता है. ये सच है कि संसार के रंगमंच पर हम सब लोग अभिनय कर रहें हैं, किन्तु ये भी सत्य है कि वास्तविक जीवन में रिटेक यानि दुबारा अभिनय करने का मौका नहीं मिलता है, इसीलिए माता-पिता, भाई-बहन, पत्नी-बच्चे और मित्रों यहाँ तक कि अपरिचितों से भी कभी भूल से भी ऐसा ख़राब व्यवहार न करें कि जीवन भर आपको पछताना पड़े. फिल्म “आप की कसम” का आनंद बक्षी का लिखा ये गीत गंभीरता से सुनने और विचार करने लायक है-
hqdefault
जिन्दगी के सफ़र में गुजर जाते हैं जो मकाम
वो फिर नहीं आते, वो फिर नहीं आते
सुबह आती हैं, रात जाती हैं, यूँही
वक्त चलता ही रहता हैं, रुकता नहीं
एक पल में ये आगे निकल जाता हैं
आदमी ठीक से देख पाता नहीं
और परदे पे मंजर बदल जाता हैं
एक बार चले जाते हैं, जो दिन रात सुबह शाम
वो फिर नहीं आते …

(सादर निवेदन- “हिंदी फ़िल्मी गीतों का दार्शनिक अंदाज” चार भागों में है. ये पहला भाग आपके समक्ष प्रस्तुत किया गया है. ये पहला भाग आपको कैसा लगा, इसपर अपनी सार्थक और विचारणीय प्रतिक्रिया जरूर दें, ताकि अगले भाग को और बेहतर बनाने में मदद मिले. सादर आभार सहित)

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
(आलेख और प्रस्तुति= सद्गुरु श्री राजेंद्र ऋषि जी, प्रकृति पुरुष सिद्धपीठ आश्रम, ग्राम- घमहापुर, पोस्ट- कन्द्वा, जिला- वाराणसी. पिन- २२११०६)
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (12 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

6 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Shobha के द्वारा
October 14, 2015

श्री आदरणीय सद्गुरु जी हिंदी गानों का महत्व विदेश में रहने वाले भारतीयों से पूछिये जब हम विदेश में थे उस समय टेप ही होते हम लोग साथ ले जाते थे हर हिन्दुस्तानी और पाकिस्तानी की डिमांड टेप है यही हम गिफ्ट में ले जाते थे |कई लोग अपनी मनपसंद का गाना सुन सुन कर घिस देते थे ईरानी लोग भी हिंदी गानों के शौकीन थे उन्हें किशोर कुमार जी बहुत प्रिय थे वह लोग कहते थे हिंदी गानों में दर्द होता है हम आपकी जुबान नहीं जानते परन्तु गीत सुनो तो बहुत अच्छा लगता हे आपने लेख द्वारा ऐसे पक्ष को बड़ी खूबसूरती से लिखा है जिसके बारे में लोग सोच नहीं सकते बहुत अच्छा लेख गीत भी सदाबहार लिए हैं

Nirmala Singh Gaur के द्वारा
October 14, 2015

एक सी भावना के इतने सारे गीत और उनका विश्लेषण बहुत सुंदर है ,भारतीय गीत और संगीत का कोई सानी नहीं है ,बहुत सुंदर प्रस्तुति आदरणीय सद्गुरु जी आपका हर मुद्दा नया और विश्लेष्मातक होता है .सादर .

deepak pande के द्वारा
October 17, 2015

व bahut khoob darshnik mahatwa kee gaano ka sunder chitran aadarniya sadguru jee

sadguruji के द्वारा
October 17, 2015

आदरणीय दीपक पाण्डे जी ! ब्लॉग पर स्वागत है ! दार्शनिक महत्व वाले हिंदी फ़िल्मी गीतों का महत्व हमेशा रहेगा ! बहुत से लोंगो के लिए ये एक अच्छे मार्गदर्शक का कार्य कर रहे हैं ! पोस्ट को पसंद करने के लिए सादर आभार !

sadguruji के द्वारा
October 17, 2015

आदरणीया निर्मला सिंह गौर जी ! ब्लॉग पर स्वागत है ! आपकी बात से पूर्णतः सहमत हूँ कि भारतीय गीत और संगीत का कोई सानी नहीं है ! इन दिनों देश में चल रही गोमांस की कुटिल और ओछी राजनीति से बहुत खिन्न हो चुका था, इसलिए सोचा की किसी मनोरंजक और प्रेरणादायी मुद्दे पर चर्चा की जाये ! पोस्ट को पसंदकर उसे सार्थकता देने के लिए सादर आभार !

sadguruji के द्वारा
October 17, 2015

आदरणीय डॉक्टर शोभा भारद्वाज जी ! सादर अभिनन्दन ! विदेशों में हिंदी फ़िल्मी गीतों की लोकप्रियता का मन को प्रसन्न और बहुत गौरवान्वित करने वाला वर्णन आपने किया है ! आपका दिया हुआ गिफ्ट वो पूरी उम्र नहीं भूल पाएंगे ! इतनी सुन्दर, अनुभवमय और पोस्ट को सार्थकता प्रदान करने वाली प्रतिक्रिया देने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद !


topic of the week



latest from jagran