सद्गुरुजी

आदमी चाहे तो तक़दीर बदल सकता है, पूरी दुनिया की वो तस्वीर बदल सकता है, आदमी सोच तो ले उसका इरादा क्या है?

493 Posts

5422 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15204 postid : 1108589

हिंदी फ़िल्मी गीतों का दार्शनिक अंदाज- भाग २- जागरण मंच

  • SocialTwist Tell-a-Friend

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~


हिंदी फ़िल्मी गीतों का दार्शनिक अंदाज- भाग २

जिन्दगी में जब अपनों से दुःख मिलतें हैं तो इन्सान सोचता है कि अब कहाँ जाये? अपनों से ठुकराए जाने पर नश्वर संसार की सच्चाई सामने आ जाती है. तब ऐसा लगता है की कसमे वादे प्यार वफ़ा सब सिर्फ मुह से बोली जाने वाली बातें हैं, संसार में कोई किसी का नहीं है, सब झूठे नातें हैं. तब इंसान आध्यात्म यानि अपनी आत्मा के आधिपत्य को समझने और इस नश्वर जगत में शाश्वत सत्य की खोज करने की ओर उन्मुख होता है. संत लोग दुनिया को “फानी” यानि नश्वर कहतें हैं. इसी भाव को दर्शाता हुआ गीतकार शैलेन्द्र का लिखा फिल्म “गाईड” का ये गीत है-
images
वहाँ कौन है तेरा, मुसाफ़िर, जायेगा कहाँ
दम लेले घड़ी भर, ये छैयां, पायेगा कहाँ
कहते हैं ज्ञानी, दुनिया है फ़ानी
पानी पे लिखी लिखायी
है सबकी देखी, है सबकी जानी
हाथ किसीके न आयी
कुछ तेरा ना मेरा, मुसाफ़िर जायेगा कहाँ …

जीवन में कभी-कभी अकेले भी चलना पड़ता है. जीवन में बहुत से ऐसे अवसर आतें हैं जब कोई साथ नहीं देता है और व्यक्ति को अकेले ही आगे बढ़ना पड़ता है. ये लगाव और मोह-माया है जो किसी से बिछुड़ने पर हमें कष्ट देती है. हम लोग इस सच्चाई को मन से स्वीकार नहीं कर पते हैं कि भगवान के धाम से हम अकेले ही आये हैं और एक दिन अकेले ही जाना है. गीतकार प्रदीप का लिखा हुआ फिल्म “सम्बन्ध” का ये गीत अकेले चलते रहने का सन्देश देता है.
maxresdefault
चल अकेला, चल अकेला, चल अकेला
तेरा मेला पीछे छूटा राही चल अकेला
हज़ारो मील लंबे रास्ते, तुझ को बुलाते
यहा दुखड़े सहने के वास्ते तुझ को बुलाते
हैं कौन सा वो इंसान यहा पर जिसने दुख ना झेला
चल अकेला, चल अकेला, चल अकेला..
तेरा कोई साथ ना दे तो, तू खुद से प्रीत जोड़ ले
बिछौना धरती को कर के, अरे आकाश ओढ़ ले
यहा पूरा खेल अभी जीवन का तूने कहा हैं खेला
चल अकेला, चल अकेला, चल अकेला..

आज का नौजवान हर क्षेत्र में कठिन प्रतिस्पर्धा, चारो और फैले भ्रस्टाचार, बेरोजगारी और घरेलू समस्याओं से परेशान है. हमारे जीवन की मज़बूरी है कि हमें सबकुछ झेलते हुए भी आगे बढ़ना है. बहुत से लोग हमारे शरीर के मित्र बन जाते हैं, परन्तु अपने दुखी मन का मित्र हमें खुद ही को बनाना होगा और यदि जीवन में अकेलापन है तो अपने मन को जीवन-पथ पर चलने हेतु बार-बार प्रेरित करना होगा. जीवन में बार-बार अपने जीने का रास्ता बदलना असफलता का मुख्य कारण बन जाता है. हम जो भी रास्ता चुने उस पर चलते रहें तो एक न एक दिन सफलता जरुर मिलेगी. एमजी हशमत का लिखा हुआ फिल्म “तपस्या” का ये गीत हमें यही प्रेरणा देता है-
1280x720-SGl
जो राह चुनी तूने, उसी राह पे राही चलते जाना रे
हो कितनी भी लम्बी रात, दीया बन जलते जाना रे ..
उसी राह पे राही चलते जाना रे …
कभी पेड़ का साया पेड़ के काम ना आया
सेवा में सभी की उसने जनम बिताया
कोई कितने भी फल तोड़े,हाय फलते जाना रे
उसी राह पे राही चलते जान रे …
जीवन के सफर में ऐसे भी मोड़ हैं आते
जहां चल देते हैं अपने भी तोड़ के नाते
कहीं धीरज छूट ना जाये, तू देख संभलते जान रे
उसी राह पे राही चलते जान रे …
तेरे प्यार की माला कहीं जो टूट भी जाये
तेरे जन्मों का साथी कभी जो छूट भी जाये
दे देकर झूठी आस तू खुद को छलते जान रे
उसी राह पे राही चलते जान रे …
तेरी अपनी कहानी ये दर्पण बोल रहा हैं
भीगी आंख का पानी, हकीकत खोल रहा हैं
जिस रंग में ढाले वक्त, मुसाफिर ढलते जान रे
उसी राह पे राही चलते जान रे …

संसार में दुःख है और दुःख का कारण भी कई हैं जैसे हमारे कर्म, हमारी असफलताएँ, हमारी अतृप्त इच्छाएँ, हमारे सोच-विचार और हमारे परिवार व् समाज के लोग. सामाजिक प्राणी होने के कारण मनुष्य एक ऐसा साथी खोजता है जो उसके दुःख में भागीदार बन सके. बड़े नसीब वाले हैं वो लोग जिन्हें ऐसा साथी मिल जाता है. ज्यादातर लोग अकेले ही अपने दुखों से और दुनिया वालों से जुझतें हैं. कैफ़ी आज़मी का लिखा हुआ फिल्म “अनुपमा” का ये गीत मुझे बहुत पसंद है-
hqdefault
या दिल की सुनो दुनियावालों
या मुझ को अभी चूप रहने दो
मैं गम को खुशी कैसे कह दू
जो कहते हैं उनको कहने दो
क्या दर्द किसी का लेगा कोई
इतना तो किसी में दर्द नही
बहते हुये आँसू और बहे
अब ऐसी तसल्ली रहने दो
या दिल की सुनो दुनियावालों
या मुझ को अभी चूप रहने दो..

जीवन में व्यक्ति हमेशा कुछ न कुछ सीखता है. पुरानी गलतिया हमें शिक्षा देतीं हैं कि हम उन्हें फिर से न दोहराएँ. जीवन में अक्सर हमें अपने ही धोखा दे जाते हैं और हमें दुःख सहने को अकेला छोड़ जातें हैं. आदमी को सुख से ज्यादा दुःख से शिक्षा मिलती है. ईश्वर से प्रेम हो जाये तो अकेलापन हमारे लिए एक वरदान साबित हो सकता है. अकेलापन हमें नशे और बर्बादी की बजाय ईश्वर की तरफ ले जाये तो इससे बढ़कर सौभाग्य और क्या हो सकता है. शकिल बदायुनी का लिखा फिल्म “आदमी” का ये गीत है-
526x297-eDi
आज पुरानी राहों से, कोई मुझे आवाज़ ना दे
दर्द में डूबे गीत ना दे, गम का सिसकता साज़ ना दे
जीवन बदला, दुनियाँ बदली, मन को अनोखा ज्ञान मिला
आज मुझे अपने ही दिल में, एक नया इंसान मिला
पहुँचा हूँ वहाँ, नहीं दूर जहाँ
भगवान भी मेरी निगाहों से
आज पुरानी राहों से, कोई मुझे आवाज़ ना दे..

जिन्दगी बहुत तेज रफ़्तार से भाग रही है. हमें उसके साथ कदम से कदम मिलकर चलना ही होगा. संतजन कहते हैं कि हमें अपने मन को एक ऐसी आनंददायक स्थिति में पहुंचा देना चाहिए कि जीवन में हमें ख़ुशी मिले या गम, हमारे ऊपर कोई असर न हो. साहिर लुधियानवी का लिखा हुआ फिल्म “हम दोनों” के इस गीत में जीवन जीने का एक निराला दार्शनिक अंदाज है-
imageshu
मैं जिन्दगी का साथ निभाता चला गया
हर फ़िक्र को धुंएँ में उडाता चला गया
बरबादीयों का सोग़ मनाना फिजूल था
बरबादीयों का जश्न मनाता चला गया
मैं जिन्दगी का साथ निभाता चला गया..
जो मिल गया उसी को मुकद्दर समझ लिया
जो खो गया मैं उस को भुलाता चला गया
मैं जिन्दगी का साथ निभाता चला गया..
गम और खुशी में फर्क ना महसूस हो जहा
मैं दिल को उस मकाम पे लाता चला गया
मैं जिन्दगी का साथ निभाता चला गया..

ढाई अक्षर का शब्द प्रेम दुनिया में हमेशा ही कौतुहल और खोज का विषय रहा. प्रेम संसार में किसी व्यक्ति से हो गया तो बहुत नसीबवालों को ही सुख मिलता है. ज्यादातर लोगों को प्रेम में दुःख और धोखा ही मिलता है. सांसारिक प्रेम में मिला दुख यदि मनुष्य को आध्यात्मिक प्रेम की तरफ ले जाये तो ये मनुष्य का अहोभाग्य होगा. किसी के प्रेम में पड़कर कभी-कभी आदमी इतना पागल हो जाता है कि अपना परिवार और यहाँ तक की सारी दुनिया छोड़ने को तैयार हो जाता है. ऐसा करना उचित है या अनुचित, इसके जबाब में इन्दीवर का लिखा हुआ फिल्म “सरस्वती चंद्र” का ये गीत विचारणीय है-
Widow-s-half-light-2opi
कहा चला ऐ मेरे जोगी, जीवन से तू भाग के
किसी एक दिल के कारण, यूँ सारी दुनियाँ त्याग के
छोड़ दे सारी दुनियाँ किसी के लिये
ये मुनासिब नहीं आदमी के लिये
प्यार से भी जरुरी कई काम हैं
प्यार सबकुछ नहीं जिन्दगी के लिये
तन से तन का मिलन हो न पाया तो क्या
मन से मन का मिलन कोई कम तो नही
खुशबू आती रहे दूर ही से सही
सामने हो चमन कोई कम तो नही
चाँद मिलता नहीं, सब को संसार में
हैं दिया ही बहोत रोशनी के लिये
छोड़ दे सारी दुनियाँ किसी के लिये
ये मुनासिब नहीं आदमी के लिये..
कितनी हसरत से तकती हैं कलियाँ तुम्हे
क्यों बहारों को फिर से बुलाते नहीं
एक दुनियाँ उजड़ ही गयी हैं तो क्या
दूसरा तुम जहां क्यों बसाते नहीं
दिल ना चाहे भी तो साथ संसार के
चलना पड़ता हैं, सब की खुशी के लिये
छोड़ दे सारी दुनियाँ किसी के लिये
ये मुनासिब नहीं आदमी के लिये..

एक महीने से मै कोशिश कर रहा था कि ये दार्शनिक अंदाज वाले गीत आप लोगों के समक्ष प्रस्तुत करूँ. पिछले वर्ष भारतीय सिनेमा के सौ वर्ष पूरे हुए हैं. ईस्वर से प्रार्थना है कि भारतीय सिनेमा उद्योग खूब फले-फूले. अपनी पसंद के इन सब गीतों को याद करके और आप सबके समक्ष प्रस्तुत करके जिन्होंने इन गीतों को लिखा, जिहोने इन गीतों को गाया, जिन्होंने रुपहले पर्दे पर इन सदाबहार गीतों के फिल्मांकन के लिए अभिनय किया और जिन्होंने अपनी फिल्मो में इन्हें फिल्माया, मै इस पोस्ट के माध्यम से उन सब महान कलाकारों और जानी-मानी हस्तियों को नमन करते हुए अपना हार्दिक अहोभाव व्यक्त कर रहा हूँ.

(सादर निवेदन- “हिंदी फ़िल्मी गीतों का दार्शनिक अंदाज” ये आलेख चार भागों में है. ये दूसरा भाग आपके समक्ष प्रस्तुत किया गया है. ये दूसरा भाग आपको कैसा लगा, इसपर अपनी सार्थक और विचारणीय प्रतिक्रिया जरूर दें, ताकि अगले भाग को और बेहतर बनाने में मदद मिले. सादर आभार सहित)

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
(आलेख और प्रस्तुति= सद्गुरु श्री राजेंद्र ऋषि जी, प्रकृति पुरुष सिद्धपीठ आश्रम, ग्राम- घमहापुर, पोस्ट- कन्द्वा, जिला- वाराणसी. पिन- २२११०६)
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (9 votes, average: 4.89 out of 5)
Loading ... Loading ...

6 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Shobha के द्वारा
October 16, 2015

श्री आदरणीय सद्गुरु जी बहुत सुंदर जीवन दर्शन को जताता लेख पहले गानों में जीवन का सत्य होता था जो खो गया मैं उस को भुलाता चला गया मैं जिन्दगी का साथ निभाता चला गया.. गम और खुशी में फर्क ना महसूस हो जहा मैं दिल को उस मकाम पे लाता चला गयाआज का नौजवान इस विचार से बिलकुल विपरीत है उसे सब कुछ चाहिए न मिलने पर वह या तो विद्रोही हो जाता है या मरना चाहता है देश ने कितनी गरीबी देशी हैं कवि की कलम भी दुखों को ही दर्शाती थी

Shobha के द्वारा
October 16, 2015

श्री सद्गुरु जी में दार्शनिक नहीं हूँ बहुत यथार्थवादी हूँ तेरा कोई साथ ना दे तो, तू खुद से प्रीत जोड़ ले बिछौना धरती को कर के, अरे आकाश ओढ़ ले यदि इन्सान ठान ले वह दशरथ मांझी बन जाता है देश ने आजादी से पहले और बाद में बहुत गुरबत की जिन्दगी देखी है उससे लड़ कर आज खुशहाली आई है आज भी सीरिया के शरणार्थी इसी हाल में ज़िंदा रहने के लिए आतुर हैं

Shobha के द्वारा
October 16, 2015

श्री सद्गुरु जी सरस्वती चन्द्र के गानों का कोइ जबाब नहीं हैं मेरे पति पुराने गीतों को सुनते हैं उनके अनुसार हर पंक्ति में कवि अपना कलेजा निकाल के दूसरों के सामने रख देता हैं उनमें आदर्श वाद होता है जीवन से जुड़ने की भावना होती है हार के बैठने का भाव नहीं होता ईरान में लोग कहते थे हिंदी गीत में फलसफा होता है एक दुनियाँ उजड़ ही गयी हैं तो क्या दूसरा तुम जहां क्यों बसाते नहींथम जाने का नाम जीवन नहीं है

sadguruji के द्वारा
October 17, 2015

आदरणीया डॉक्टर शोभा भारद्वाज जी ! सादर अभिनन्दन ! डॉक्टर साहब सही कहते हैं कि पुराने गीतकार गीत लिखते समय अपना कलेजा निकालकर रख देते थे ! सरस्वती चन्द्र के सभी गीत अच्छे हैं ! सार्थक प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद !

sadguruji के द्वारा
October 17, 2015

आदरणीया डॉक्टर शोभा भारद्वाज जी ! सादर अभिनन्दन ! यथार्थवादी एक अच्छा दार्शनिक भी होता है ! दशरथ मांझी सही मायने में यथार्थवादी दार्शनिक कहलाने योग्य हैं ! महापुरुषों के बताये मार्ग पर चलते हुए सत्य का अनुसंधान करना सबसे उचित दार्शनिक मार्ग है ! सादर आभार !

sadguruji के द्वारा
October 17, 2015

आदरणीया डॉक्टर शोभा भारद्वाज जी ! हार्दिक अभिनन्दन ! गम और खुशी में फर्क ना महसूस हो जहा मैं दिल को उस मकाम पे लाता चला गया ! मुझे कई साल लगे, परन्तु इसका अभ्यस्त हो जाने पर जीवन को एक बिल्कुल नई और बेहद आनंददायी दिशा भी मिली ! आज के नौजवानों को सही मार्गदर्शन चाहिए और ये कार्य मोदीजी को ही करना होगा, क्योंकि देश के अधिकतर युवा उनमे बहुत विश्वास करते हैं ! प्रतिक्रिया देने वके लिए हार्दिक आभार !


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran