सद्गुरुजी

आदमी चाहे तो तक़दीर बदल सकता है, पूरी दुनिया की वो तस्वीर बदल सकता है, आदमी सोच तो ले उसका इरादा क्या है?

523 Posts

5655 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15204 postid : 1110228

हिंदी फ़िल्मी गीतों का दार्शनिक अंदाज- भाग ४- जागरण मंच

  • SocialTwist Tell-a-Friend

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

हिंदी फ़िल्मी गीतों का दार्शनिक अंदाज- भाग ४- जागरण मंच

हिंदी फ़िल्मी गीतों का दार्शनिक अंदाज भाग-चौथा प्रस्तुत है. इस भाग में दार्शनिक अंदाज में दुनिया की नश्वरता बताने वाले और ईश्वर की खोज के लिए प्रेरित करने वाले कुछ लोकप्रिय फ़िल्मी गीतों को शामिल किया गया है. इन गीतों को फ़िलहाल पढ़कर और गहराई से चिंतन-मननकर आनंद लें, बाद में जरूर सुनने की कोशिश करें.

मेहनत और ईमानदारी से कमाकर अपने परिवार के साथ बैठकर दो जून की रोटी हम खाएं और हंसी-ख़ुशी सुख-शांति के साथ जीवन बिताएं, जीवन का सार तो यही है, परन्तु आज समाज में चारो तरफ सही गलत ढंग से रूपया कमाने की होड़ लगी हुई है. हमारे देश के नेता रूपया बटोरने के लिए बड़ा से बड़ा भ्रस्टाचार और घोटाला कर रहें हैं. बड़े और विकसित देशों में आज पूरी दुनिया को अपनी मुट्टी में करने की होड़ लगी हुई है. इस दुनिया की सच्चाई क्या है और अगर ये दुनिया किसी को मिल भी जाये तो भी इसे यहीं छोड़ कर एक दिन यहाँ से जाना है. साहिर लुधियानवी का लिखा फिल्म “प्यासा” का ये गीत है-
Pyaasa (1957) - Ye duniya agar mil bhi jaaye to kya hain
ये दुनियाँ अगर मिल भी जाये तो क्या हैं
ये महलों, ये तख्तों, ये ताजों की दुनियाँ
ये इंसान के दुश्मन समाजों की दुनियाँ
ये दौलत के भूखे रवाजों की दुनियाँ
ये दुनियाँ अगर मिल भी जाये तो क्या हैं
हर एक जिस्म घायल, हर एक रूह प्यासी
निगाहो में उलझन, दिलों में उदासी
ये दुनियाँ हैं या आलम-ए-बदहवासी
ये दुनियाँ अगर मिल भी जाये तो क्या हैं
जहाँ एक खिलौना हैं, इंसान की हस्ती
ये बस्ती हैं मुर्दा परस्तों की बस्ती
यहाँ पर तो जीवन से मौत सस्ती
ये दुनियाँ अगर मिल भी जाये तो क्या हैं..

hqdefaultmhg
जवानी भटकती हैं बदकार बन कर
जवां जिस्म सजते हैं बाजार बनकर
यहाँ प्यार होता हैं व्योपार बनकर
ये दुनियाँ अगर मिल भी जाये तो क्या हैं
ये दुनियाँ जहाँ आदमी कुछ नहीं है
वफ़ा कुछ नहीं, दोस्ती कुछ नहीं हैं
यहाँ प्यार की कद्र ही कुछ नहीं है
ये दुनियाँ अगर मिल भी जाये तो क्या हैं
जला दो इसे, फूँक डालो ये दुनियाँ
मेरे सामने से हटा लो ये दुनियाँ
तुम्हारी हैं तुम ही संभालो ये दुनियाँ
ये दुनियाँ अगर मिल भी जाये तो क्या हैं..

हम रहें या न रहें ये दुनिया यूँ ही चलती रहेगी. समय-समय पर दुनिया में बड़ी से बड़ी उथल-पुथल भी होती रहेगी. संसार में जीवन का मेला नहीं ख़त्म होगा, बस इस भीड़ में हम नहीं रहेंगे. फिल्म “मेला” का ये गीत सबको यही सन्देश देता है-
hqdefault
ये ज़िन्दगी के मेले
दुनिया में कम न होंगे
अफसोस हम न होंगे
इक दिन पड़ेगा जाना,क्या वक़्त,क्या ज़माना
कोई न साथ देगा सब कुछ यहीं रहेगा
जाएंगे हम अकेले
ये ज़िन्दगी के मेले …………
दुनिया है मौज-ए-दरिया, क़तरे की ज़िन्दगी क्या
पानी में मिल के पानी,अंजाम ये के फानी
दम भर को साँस ले ले
ये ज़िन्दगी के मेले …………
होंगी यही बहारें, उल्फत की यादगारें
बिगड़ेगी और बनेगी, दुनिया यही रहेगी
होंगे यही झमेले
ये ज़िन्दगी के मेले …………

संसार से एक दिन जाना है, इसीलिए जाने से पहले हम अपने परिवार और समाज के लिए कुछ अच्छा कर जाएँ. हमारे जीवन के पीछे परमात्मा रूपी जो अदृश्य शक्ति है, उससे भी भजन साधना करके जीते जी नाता जोड़ना जरुरी है. मजरुह सुल्तानपुरी का लिखा हुआ फिल्म “धरम करम” का ये गीत है-
hqdefaulthggh
इक दिन बिक जायेगा, माटी के मोल
जग में रह जायेंगे, प्यारे तेरे बोल
परदे के पीछे बैठी साँवल गोरी
थाम के तेरे मेरे मन की डोरी
ये डोरी ना छूटे, ये बंधन ना टूटे
भोर होने वाली हैं अब रैना हैं थोड़ी
सर को झुकाये तू, बैठा क्या हैं यार
गोरी से नैना जोड़, फिर दुनियाँ से डोल
इक दिन बिक जायेगा, माटी के मोल..

हिंदी फ़िल्मी गीत सांप्रदायिक सद्भाव पर जोर देते हैं. वो जनमानस को समझाने की कोशिश करते है कि ईश्वर एक है, चाहे उसे राम कहो या ख़ुदा कहो, चाहे उसे मंदिर में जाकर खोजो या फिर मस्जिद में जाकर खोजो. साहिर लुधियानवी का लिखा हुआ फिल्म “धर्मपुत्र” का ये गीत है-
hqdefaultghhh
काबे में रहो या काशी में रहो ..
निस्बत तो उसी की ज़ात से है ..
तुम राम कहो के रहीम कहो,
मतलब तो उसी की बात से है ..
ये मस्जिद है वो है बुतखाना ..
चाहे ये मानो या वो मानो ..
मंदिर से मुरादें मिलती है,
मस्जिद से मुरादें मिलती है ..
काबे से मुरादें मिलती है,
काशी से मुरादें मिलती है ..
हर दर से मुरादें मिलती है ..
हर घर है उसी का काशाना,
मकसद तो है बस दिल को समझाना
चाहे ये मानो या वो मानो..

संत और दार्शनिक कहते हैं कि संसार में जब कोई व्यक्ति पैदा होता है तब वह न हिन्दू होता है और न ही मुसलमान. उसे हिन्दू या मुसलमान बनाया जाता है. अपने धर्म के अस्तित्व की रक्षा करने के लिए और जगत में उसका विस्तार करने के लिए लड़ना और दूसरे धर्म से नफरत करना सिखाया जाता है. दो सांसारिक धर्मों की लड़ाई में ईश्वर निर्मित नैसर्गिक ‘मानव धर्म’ दिल के भीतर सुप्त व् लुप्त हो जाता है. आज जरुरत है उसे जगाने की और मानव धर्म अपनाने की, ताकि संसार में धर्म को लेकर हो रहे दंगे-फसाद और खून-खराबे बंद हों. इसी भाव को दर्शाता हुआ साहिर लुधियानवी का लिखा हुआ फिल्म “धूल का फूल” का ये गीत है-
hqdefaultjhhhj
तू हिन्दु बनेगा ना मुसलमान बनेगा
इन्सान की औलाद है इन्सान बनेगा
मालिक ने हर इंसान को इंसान बनाया
हमने उसे हिन्दू या मुसलमान बनाया
कुदरत ने तो बख्शी थी एक ही धरती
हमने कहीं भारत कहीं इरान बनाया
जो तोड़ दे हर बांध वो तूफ़ान बनेगा
इन्सान की औलाद है इन्सान बनेगा
तू हिन्दु बनेगा ना मुसलमान बनेगा..

इन्सान जब जागे तभी सबेरा है. सत्य क्या है, ईश्वर क्या है, इसकी खोज जरुर करनी चाहिए. संसार में बार-बार आने और हमारे दुःख व् अतृप्ति का कारण इन सवालों के जबाब नहीं ढूँढना है. पं. नरेन्द्र शर्मा का लिखा हुआ फिल्म “सत्यम शिवम सुंदरम” का ये गीत है-
14015668374f885-640x480-1ghgh
ईश्वर सत्य हैं, सत्य ही शिव हैं, शिव ही सुंदर हैं
जागो उठकर देखो, जीवन ज्योत उजागर हैं
सत्यम शिवम सुंदरम, सत्यम शिवम सुंदरम
राम अवध में, काशी में शिव, कान्हा वृन्दावन में
दया करो प्रभू, देखू इन को हर घर के आंगन में
राधा मोहन शरणम, सत्यम शिवम सुंदरम
एक सूर्य हैं, एक गगन हैं, एक ही धरती माता
दया करो प्रभू, एक बने सब सब का एक से नाता
राधा मोहन शरणम, सत्यम शिवम सुंदरम

(सादर निवेदन- “हिंदी फ़िल्मी गीतों का दार्शनिक अंदाज” ये आलेख चार भागों में है. ये चौथा भाग आपके समक्ष प्रस्तुत किया गया है. ये चौथा भाग आपको कैसा लगा, इसपर अपनी सार्थक और विचारणीय प्रतिक्रिया जरूर दें. सादर आभार सहित)

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
(आलेख और प्रस्तुति= सद्गुरु श्री राजेंद्र ऋषि जी, प्रकृति पुरुष सिद्धपीठ आश्रम, ग्राम- घमहापुर, पोस्ट- कन्द्वा, जिला- वाराणसी. पिन- २२११०६)
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (12 votes, average: 4.92 out of 5)
Loading ... Loading ...

8 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

shakuntla mishra के द्वारा
October 28, 2015

इन गीतों में सब सत्य है पर सब अपने रोल में हैं कही न कही नियति सब पर भारी पड़ती है इंसान कुछ नहीं कर पाता |

sadguruji के द्वारा
October 28, 2015

पुराने हिन्दी फिल्मी गीतों का भावनात्मक पक्ष बहुत संवेदनशील होता था ! वो हमारे सुखदुख से जुड़े पतित होते थे ! वो आदर्शमय और संस्कारमय जीवन जीने को प्रेरित करते थे !

sadguruji के द्वारा
October 28, 2015

हिंदी के कवि और उर्दू के शायरों में कई लिखने वाले अपनी रचना मे अपना कलेजा निकाल के रख देते हैं ! ऐसे महान साहित्यकार हमेशा याद रखे जायेंगे !

sadguruji के द्वारा
October 28, 2015

पुराने हिन्दी फिल्मी गीतों मे एक से बढ़कर एक सुन्दर और विचारणीय संदेश है ! ऐसे ही कुछ गीतों को संकलित कर उसे बुद्धिजीवी लेखकों और जिग्यासु पाठकों के समक्ष प्रस्तुत किया गया है !

sadguruji के द्वारा
October 28, 2015

जीना तो है उसी का जिसने ये राज़ जाना ! है काम आदमी का औरों के काम आना ! मोहब्बत वो ख़ज़ाना है कभी जो कम नहीं होता ! है जिसके पास दौलत उसे कुछ ग़म नहीं होता ! तेरा-मेरा करके जो मरते उनको ये समझाना ! जीना तो है उसी का जिसने ये राज़ जाना ! है काम आदमी का औरों के काम आना !

sadguruji के द्वारा
October 28, 2015

आदरणीया शकुंतला मिश्रा जी ! ब्लॉग पर स्वागत है ! सही कहा आपने कि इस संसार में नियति के अनुसार सब अपना रोल निभा रहे हैं ! जहाँ तक प्रेरणा की बात है, वो बहुत से ऐसे पुराने फ़िल्मी गीत हैं, जो देते हैं ! प्रतिक्रिया देने के लिए धन्यवाद !

sadguruji के द्वारा
October 28, 2015

गर्दिश में हों तारे, न घबराना प्यारे ! ग़र तू हिम्मत न हारे, तो होंगे वारे न्यारे ! गर्दिश में हों तारे… मुझको मेरी आशा, देती है दिलासा ! आयेंगी बहारें चली जाएगी ख़िज़ा ! हो, आस्मां ये नीला\-नीला करे है इशारे ! गर्दिश में हों तारे… बाज़ुओं में दम है, फिर काहे का ग़म है ! अपने इरादे हैं, उमंगें हैं जवां ! हो, मुशिलें कहाँ हैं, उम्हें मेरा दिल पुकारे ! गर्दिश में हों तारे… दुनिया है सराय, रहने तो ह्म आए ! आया है तो हँसी-खुशी रह ले तू यहाँ ! हो, सुरमा है ज़िंदगी जो काँटों में गुज़ारे ! गर्दिश में हों तारे… चित्रपट : रेशमी रुमाल, गीतकार : राजा मेहदी अली खान

sadguruji के द्वारा
October 28, 2015

ज्योत से ज्योत जगाते चलो, प्रेम की गंगा बहाते चलो ! राह में आये जो दीन दुखी, सब को गले से लगाते चलो ! कौन है ऊँचा, कौन है नीचा, सब में वो ही समाया ! भेदभाव के झूठे भरम में ये मानव भरमाया ! धर्म ध्वजा फ़हराते चलो ! ज्योत से ज्योत जगाते चलो.. सारे जग के कणकण में है, दिव्य अमर एक आत्मा ! एक ब्रम्ह है, एक सत्य है, एक ही है परमात्मा ! प्राणों से प्राण मिलाते चलो ! ज्योत से ज्योत जगाते चलो.. गीतकार : भरत व्यास, चित्रपट : संत ज्ञानेश्वर


topic of the week



latest from jagran