सद्गुरुजी

आदमी चाहे तो तक़दीर बदल सकता है, पूरी दुनिया की वो तस्वीर बदल सकता है, आदमी सोच तो ले उसका इरादा क्या है?

529 Posts

5725 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15204 postid : 1167325

शाहरुख़ ने कहा दिल से या 'फैन' फिल्म की मार्केटिंग का नुस्खा

  • SocialTwist Tell-a-Friend

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
शाहरुख़ ने कहा दिल से या ‘फैन’ फिल्म की मार्केटिंग का नुस्खा
“मैं यहां बडे साफ तौर से कहना चाहता हूं जब हम सब ने देश के नेता को चुना, चाहे वो कोई भी क्य़ों न हो, मोदीजी जैसे महान क्यों न हों, हम सभी को उनका समर्थन करना चाहिए, क्य़ोंकि हमारे देश ने बहुमत के साथ उन्हें चुना है. हमें अपने नेता का समर्थन करते हुए इस देश को आगे ले जाना चाहिए और नकारात्मक नहीं बनना चाहिए.” अभिनेता शाहरुख खान ने ये बात इंडिया टीवी के लोकप्रिय शो “आप की अदालत” में मशहूर पत्रकार रजत शर्मा के सवालों का जवाब देते हुए कही.
SHAH_
शाहरुख का यह बयान स्वागत योग्य है, किन्तु कई मायनों में विचारणीय भी है. लगभग छह महीने पहले अपने पचासवें जन्मदिन पर उन्होंने एक समाचार चैनल पर देश के उससमय के हालात के बारे में कहा था, “असहिष्णुता है, घोर असहिष्णुता है. मुझे लगता है कि असहिष्णुता बढ़ रही है. असहिष्णु होना मूखर्ता है और यह सिर्फ हमारा एक मुद्दा नहीं बल्कि सबसे बड़ा मुद्दा है. देश में धार्मिक असहिष्णुता और धर्मनिरपेक्ष नहीं होना सबसे जघन्य तरह का अपराध है जो आप एक देशभक्त के रूप में कर सकते हैं.”

पद्मश्री सहित कई सम्मान प्राप्त शाहरुख़ खान ने उस समय की तथाकथित ‘असहिष्णुता के माहौल’ को लेकर फिल्मकारों, वैज्ञानिकों, लेखकों और बुद्धिजीवी वर्ग के द्वारा पुरस्कार वापसी के छद्म और राजनीतिक विरोध के साथ अपनी आवाज जोड़ते हुए कहा था कि देश में ‘घोर असहिष्णुता’ है और वह ‘प्रतीकात्मक रुख’ के तौर पर अपना पुरस्कार लौटाने में नहीं हिचकेंगे. शाहरुख के इस बयान पर देश भर में भारी विवाद खड़ा हो गया था.

शाहरुख को देशद्रोही कहकर उनकी तुलना पाकिस्तानी सरगना हाफिज सईद से की गई. कई संगठनों ने शाहरुख की आने वाली फिल्म “दिलवाले” का बहिष्कार करने का ऐलान भी किया और कुछ संगठनों ने तो सिनेमा हॉल मालिकों को “दिलवाले” फिल्म नहीं लगाने की चेतावनी तक दे डाली. “दिलवाले” फिल्म रिलीज होने पर देश के कई हिस्सों में उसका जबरदस्त विरोध हुआ. शाहरुख़ खान को उम्मीद नहीं थी कि इतना विरोध होगा.
shahrukh-khan-family-photoDFD
उन्हें मजबूरन अपने असहिष्णुता पर दिए गए बयान पर देशवासियों से माफी मांगनी पड़ी और कहना पड़ा कि देश में कोई असहिष्णुता नहीं है और अगर उन्होंने किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाई हो तो वह माफी मांगते हैं. पिछले शुक्रवार को शाहरुख़ खान की नई फिल्म “फैन” रिलीज हुई है. जाहिर सी बात है कि उसके प्रचार और प्रोमोशन के लिए शाहरुख़ खान को टीवी चैनलों पर आना ही था. इसीलिए वो ‘आप की अदालत’ में दिखाई दिए.

एक नेता की तरह अपना पुराना बयान बदलते हुए शाहरुख खान ने कहा कि पिछले साल नवम्बर में असहिष्णुता के विवाद को लेकर उनके बयान को तोड़मरोड़कर पेश किया गया था. उन्होंने कहा, “मैंने तो युवाओं को सलाह दी थी कि वे क्षेत्रीयवाद, मजहब, जाति, जैसे मामलों में इन्टॉलरेन्ट न हों. मेरे पिताजी देश के सबसे कम उम्र के स्वाधीनता सेनानियों में से थे. मैं ये कैसे सोच सकता हूं कि इस देश ने हमारे साथ अच्छा सलूक नहीं किया.”

शाहरुख ने यहाँ तक कह दिया, “मेरा घर एक मिनी-इंडिया है. मेरी पत्नी हिन्दू है, मैं जन्म से मुस्लिम हूं, मेरे तीनों बच्चे तीन अलग धर्मों को मानते हैं. मैं अपने देश के बारे में ऐसे कैसे सोच सकता हूं?” कभी कभी मुझे बहुत दुख होता है. ऐसा मुझे रोना आता है, कि मैं बार बार ये बताऊं कि मैं देशवासी और देशभक्त हूं, क्योंकि मैं हूं, मुझसे ज्यादा, हम सभी हैं, सचमुच में. हम लोगों को किसी से प्रतियोगिता करने की जरूरत नहीं है.
fan_640x480_41455697823_635963325454886604
“मैं सभी यंग लोगों से कहूंगा कि टॉलरेन्ट बनो, खुश रहो, खूब काम करो और इस राष्ट्र को आगे ले जाओ. जो छोटी बातें हैं, वो हमारे देश के हित को खराब नहीं करनी चाहिए.” सबसे अमीर भारतीय अभिनेता शाहरुख़ खान का यह बयान विचारणीय ही नहीं, बल्कि अनुकरणीय भी लगता है और निसंदेह स्वागत योग्य है, किन्तु शर्त यही है कि ये दिल से निकली हो, महज अपनी नई फिल्म को चलाने भर के लिए दिया गया एक चालाकी भरा बयांन भर न हो.

कहा जा रहा है कि शाहरूख खान की नई फिल्म ‘फैन’ को सुपरहिट करने के लिए कई हथकंडे अपनाये जा रहे हैं. पिछले मंगलवार की सुबह से ही ट्विटर पर एक हैश टैग #मोदी की बर्बादी ने जमकर बवाल मचाया. इसमें असहिष्णुता को मुद्दा बना मोदी सरकार की नीतियों पर कटाक्ष किया गया था, हैशटैग के साथ किए जा रहे जबाबी ट्वीट्स में शाहरुख खान और उनके फैन्स के खिलाफ गालियां देखने को मिलीं. ये “फैन” फिल्म की मार्केटिंग का नुस्खा लगता है. शाहरुख खान इस पर अब तक चुप क्यों हैं?

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
(आलेख और प्रस्तुति= सद्गुरु श्री राजेंद्र ऋषि जी, प्रकृति पुरुष सिद्धपीठ आश्रम, ग्राम- घमहापुर, पोस्ट- कंदवा, जिला- वाराणसी. पिन- 221106)
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (12 votes, average: 4.92 out of 5)
Loading ... Loading ...

16 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

shakuntla mishra के द्वारा
April 20, 2016

प्रणाम !

sadguruji के द्वारा
April 22, 2016

आदरणीया शकुंतला मिश्रा जी ! सादर अभिनन्दन ! पोस्ट पढ़ने और ‘गागर में सागर’ वाली प्रतिक्रिया देने के लिए धन्यवाद !

sadguruji के द्वारा
April 23, 2016

“माय नेमा इज़ ख़ान” फिल्म के रिलीज के समय भी दर्शकों की सहानुभूति बटोरने के लिये उन्होने साम्प्रदायिक मुद्दा उठाया था ! ऐसे लोग हर चीज मे अपना फायदा ढूंढते हैं !

sadguruji के द्वारा
April 23, 2016

शाहरुख ख़ान की जब भी कोई नई फिल्म आनी होती है उससे पहले साम्प्रदायिक द्वेश फैलाना उनकी फ़ितरत है ! यह सब अपनी फिल्म के प्रचार के लिये करते हैं ! जब “माय नेम इज़ ख़ान” आने वाली थी इन्होने अमेरिका के एयरपोर्ट पर मुसलमान होने के कारण तलाशी लेने की बात कही थी ! तब सलमान ने कहा था कि अमेरिका आज इसीलिये आतंकवादी हमलों से बचा हुआ है क्योंकि वहा चेकिंग होती है और ऐसा तो उनके साथ भी होता है और उन्हे कोई एतराज नही है !

sadguruji के द्वारा
April 23, 2016

यह सच है की रुपये के पीछे भागने वाले लोग किसी के नही होते, किन्तु राष्ट्र सर्वोपरि है, उसका तो होना ही होगा !

sadguruji के द्वारा
April 23, 2016

सूखा पीड़ितों की सेवा मे लगे नाना पाटेकर, आमिर खान और अक्षय कुमार जैसे महान कलाकार ही जनता के वास्तविक हीरो हैं ! कई हजार करोड़ की संपत्ती होते हुए भी सूखा पीड़ितों की सेवा नही करना नैतिक और धार्मिक दोनों ही दृष्टि से निन्दनीय है !

sadguruji के द्वारा
April 23, 2016

शाहरुख कहते है कि वे देश के सबसे बड़े देशभक्त है तो उनको महाराष्ट्र के सूखा-पीड़ित लोगो के जख्मो पर मरहम लगाने के लिये कोई चेरिटी शो करके उसकी रकम समाजसेवा मे देनी चाहिये ! आखिर महाराष्ट्र भी उसी देश का हिस्सा है जहा का सबसे बड़ा देशभक्त बनने का दावा शाहरुख कर रहे है !

sadguruji के द्वारा
April 23, 2016

संस्कारी और अच्छे कुल वाले घरों मे स्त्रियों की स्थिति अच्छी है, किन्तु अधिकतर हिन्दू समाज मे स्त्रियों की स्थिति बहुत संघर्षमय है ! हा, यह बात सही है की हिन्दुओं मे स्त्री का सम्मान शास्त्रीय और सनातन रूप से ज्यादा है !

sadguruji के द्वारा
April 23, 2016

धर्म का आशय धारण् करना माना जाये तो दुनिया का कोई भी धर्म समग्र रूप से धारण करना असम्भव है ! धर्म की कुछ चीजों को ही इंसान धारण कर पाता है, खासकर उन चीजों को जो उसकी स्वार्थपूर्ति करें ! इसलिये पूर्णत धार्मिक होने का दावा करना ही हास्यास्पद और एक ढोंग मात्र है !

sadguruji के द्वारा
April 23, 2016

स्त्रियों की दशा हर धर्म मे संघर्षमय और दुखमय है ! स्त्री जब तक स्त्री को सम्मान और सहानुभूति देना नही सीखेगी, ओर उनमे एकजुटता नही होगी, तब तक स्त्रियों की खराब दशा मे सुधार नही होगा !

SATYA SHEEL AGRAWAL के द्वारा
April 24, 2016

श्री राजेन्द्र जी, आपका लेख विचार करने योग्य है. नेताओं और अभिनेताओं को सोच समझ कर ही बोलना चाहिए. जनता सब समझती है. जिस देश की जनता के समर्थन से अपने अपर धनदौलत कमाई है उसे अपने खिलाफ करके कैसे आगे बढ़ सकते हो.

sadguruji के द्वारा
April 24, 2016

आदरणीय सत्यशील अग्रवाल जी ! ब्लॉग पर स्वागत है ! पोस्ट की सराहना के लिए धन्यवाद ! आपकी बात से सहमत हूँ ! सादर आभार !

SATYA SHEEL AGRAWAL के द्वारा
April 24, 2016

सद्गुरु जी, आपका ब्लॉग वास्तविकता को दर्शाता है हो सकता है अपने नयी फिल्म के प्रमोशन के लिए शाहरूख ने अपने रुख को बदला हो .

PAPI HARISHCHANDRA के द्वारा
April 24, 2016

सद् गुराय नमो  नमः  ओम शांति शाति 

sadguruji के द्वारा
April 24, 2016

आदरणीय हरीश चन्द्र शर्मा जी ! हार्दिक अभिनन्दन ! पोस्ट से सहमति के लिए धन्यवाद ! अपनी स्वार्थपूर्ति के हर मौके पर अच्छा अभिनय करने वाले नेता अभिनेता दोनों को ही नमो नमः ! ब्लॉग पर आने और प्रतिक्रिया देने के लिए हार्दिक आभार !

sadguruji के द्वारा
April 24, 2016

आदरणीय सत्यशील अग्रवाल जी ! सादर अभिनन्दन ! पोस्ट की सराहना के लिए धन्यवाद ! सभी यही मान रहे कि अपनी फिल्म ‘फैन’ के प्रोमोशन के लिए शाहरुख़ ये सब हथकंडे अपना रहे हैं ! दिल से कह रहे हो तो उन्हें बहुत बहुत साधुवाद ! ब्लॉग पर समय देने के लिए सादर आभार !


topic of the week



latest from jagran