सद्गुरुजी

आदमी चाहे तो तक़दीर बदल सकता है, पूरी दुनिया की वो तस्वीर बदल सकता है, आदमी सोच तो ले उसका इरादा क्या है?

455 Posts

5007 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15204 postid : 1257808

पाकिस्तान जैसे बेहया और आतंकवादी मुल्क से अब हम कैसे निपटें?

  • SocialTwist Tell-a-Friend

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
पाकिस्तान जैसे बेहया और आतंकवादी मुल्क से अब हम कैसे निपटें?
सन 2013 में अपने एक ट्वीट में प्रधानमंत्री मोदी ने लिखा था, “भारत मुश्किल स्थिति से गुज़र रहा है. चीन हमारी सीमा में घुसपैठ कर रहा है. पाकिस्तान बार-बार हमारे सैनिकों की जान ले रहा है और केंद्र कुछ नहीं कर रहा है.” उस समय केंद्र में मनमोहन सिंह की सरकार थी और मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे. मोदी जी अब तो आप मनमोहन सिंह को दोष नहीं दे सकते हैं. आप पूर्ण बहुमत प्राप्त प्रधानमंत्री हैं, देश की सारी जनता आपके साथ है, फिर आप क्यों पाकिस्तान द्वारा प्रायोजित आतंक को बर्दाश्त कर रहे हैं? कश्मीर के उड़ी सेक्टर में भारतीय सेना के शिविर पर हुए हमले में हमारे 20 सैनिक शहीद हुए हैं. इस तरह से आखिर कब तक हम रक्षात्मक रुख अपनाते हुए एक के बाद आतंकी हमले झेलते रहेंगे और पाकिस्तान आतंकवादियों को भेजकर एक गहरी साजिश के तहत और छल-कपट के द्वारा हमारे बहादुर सैनिकों की जान लेता रहेगा? आप पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार की तरह कबतक दुविधा में फंसे रहेंगे? उचित तो यही है कि अब आप जल्द से जल्द पाकिस्तान के ख़िलाफ़ आर-पार वाला अंतिम फ़ैसला लीजिए.

भाजपा के नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कुछ रोज पहले कहा था कि जम्मू कश्मीर में महबूबा मुफ्ती नीत सरकार को बर्खास्त कर देना चाहिए और राज्य में राष्ट्रपति शासन लगा देना चाहिए. कश्मीर घाटी में पिछले दो महीने से भी अधिक समय से जारी अशांति और लगातार जारी आतंकी हमलों पर अपनी राय व्यक्त करते हुए सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा था कि शुरुआत में हमें लगा था कि चूंकि हम जम्मू और लद्दाख में जीते हैं और पीडीपी कश्मीर में जीती है, इसलिए हमें पीडीपी के साथ मिलकर सरकार बनाने का प्रयोग करना चाहिए, किन्तु अब मेरे सहित देश के बहुत से लोगों को लगता है कि यह प्रयोग विफल रहा है. कश्मीर घाटी में जारी प्रदर्शन और आतंकी हमलों से कड़ाई से निपटने के लिए सैन्य ताकत जरूरी है. महबूबा मुफ्ती सरकार को इस्तीफा दे देना चाहिए, यदि न दें तो इस सरकार को बर्खास्त कर देना चाहिए. सुब्रमण्यम स्वामी ने जो कुछ भी कहा है, सही कहा है. अन्तोगत्वा जम्मू-कश्मीर में यही होने वाला है. लोकतांत्रिक ढंग से चुनी हुई सरकार को जब अराजक और आतंकी तत्व चलने और काम करने ही न दें तो कोई दूसरा विकल्प भी नहीं है.
18_09_2016-indian_army_01
कल कश्मीर के उड़ी क्षेत्र में एक आर्मी बेस कैंप पर सीमा पार पाकिस्तान से आए आतंकियों के हमले में भारतीय सेना के 20 जवान शहीद और 25 घायल हुए हैं. सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में चार आतंकवादी भी मारे गए हैं. इस हमले के बाद भारत और पाकिस्तान दोनों तरफ से सख्त बयान आ रहे हैं. प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर कहा, “हम उरी में हुए कायराना हमले की कड़ी आलोचना करते हैं. मैं राष्ट्र को भरोसा देता हूं कि इस कायरतापूर्ण हमले के पीछे जो लोग हैं उन्हें सज़ा ज़रूर मिलेगी.” उधर बड़ी बेहद बेशर्मी के साथ पाकिस्तान के रक्षामंत्री ख्वाजा मोहम्मद आसिफ ने एक टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में साफ-साफ कहा कि अगर भारत ने हमारी जमीन पर कदम रखा तो हम परमाणु हथियारों का इस्तेमाल करने से गुरेज नहीं करेंगे. एक अनुमान के अनुसार पाकिस्तान के पास लगभग 120 परमाणु हथियार हैं और वो इस्लामाबाद के करीब काहुटा शहर में एक यूरेनियम एनरिचमेंट कॉम्प्लेक्स (न्यूक्लियर साइट ) बना रहा है. अपनी इसी विनाशकारी उन्नति के बल पर वो भारत पर परमाणु हमला करने की धमकी देता रहता है.

अब सवाल ये है कि भारत पर लगातार हमले करने वाले पाकिस्तान जैसे बेहया और ढेरों आतंक की फैक्ट्रियां चलाने वाले आतंकवादी मुल्क से हम कैसे निपटें? सीमा पार कर पाकिस्तान में चलाये जा रहे आतंकी केम्पों को यदि हम नष्ट करने की कोशिश करते हैं तो पाकिस्तान हम पर परमाणु हमला भी कर सकता है, इसमें कोई सन्देह नहीं. भारत के पास अन्य विकल्प यही है कि हम बलूचिस्तान का समर्थन कर पाकिस्तान को परेशान करें और उसे आर्थिक रूप से कमजोर करने के लिए अपने मित्र देश अफगानिस्तान का सहारा लेकर उसका विदेशों में सड़क मार्ग से होने वाला विस्तृत व्यापार रोक दें. एक महीने में पाकिस्तान की आर्थिक हालत बेहद खस्ती हो जायेगी. जम्मू-कश्मीर की तीन नदियों का पानी पाकिस्तान में जाने से रोकना भी उसे परेशान करने का एक अन्य कारगर उपाय है. अंतरराष्ट्रीय मंचों पर भी पाकिस्तान को एक आतंकी मुल्क साबित कर उसे अंतरराष्ट्रीय बिरादरी से अलग-थलग करने की जरुरत है. अंत में बस यही कहूंगा कि हम सब लोग उरी में शहीद होने वाले सैनिकों को सलाम करते हैं. हमारी हार्दिक संवेदनाएं उनके परिवारों के साथ हैं.

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
आलेख और प्रस्तुति= सद्गुरु श्री राजेंद्र ऋषि जी, प्रकृति पुरुष सिद्धपीठ आश्रम, ग्राम- घमहापुर, पोस्ट- कन्द्वा, जिला- वाराणसी. पिन- 221106
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (8 votes, average: 4.88 out of 5)
Loading ... Loading ...

12 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

rameshagarwal के द्वारा
September 19, 2016

जय श्री राम सद्गुरुजी पकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा देश में उरी हमले से बहुत आक्रोश है और सरकार में भी चिंता के साथ रणनीति की तैयारी चल रहे कांग्रेस के प्रवक्ता इस पर भी राजनीती कर रहे कश्मीर समस्या नेहरूजी की दें है उसके बाद इंदिराजी ने १९७१ में बिना कश्मीर के ९०००० सैनिक छोड़ कर गलती की वैसे युद्ध की राजनीती टीवी में कह कर नहीं बनाई जाती उम्मीद है जल्दी ही सरकार कुछ कठोर कदम उठायेगी .पकिस्तान को आर्थिक मदद तो मुस्लिम देश और चीन दे  देगा इसलिए भारत भी सोच समझ कर फैसला लेगी,सुन्दर लेख के लिए बधाई.

jlsingh के द्वारा
September 19, 2016

आदरणीय सद्गुरु जी, सादर अभिवादन! जय हिन्द! मुझे भी लगता है कि आज उच्च स्तरीय मीटिंग हुई है उसमे कुछ फैसला अवश्य हुआ होगा जिसका खुलासा करना उचित भी नही होगा. हमें एक दो सप्ताह इंतजार कर सरकार के कदम का इन्तजार करना चाहिए. सादर!

sadguruji के द्वारा
September 20, 2016

आदरणीय सिंह साहब ! सादर अभिनन्दन ! आपकी बात से सहमत हूँ की हमें एक दो सप्ताह इंतजार कर सरकार के कदम का इन्तजार करना चाहिए ! ब्लॉग पर समय देने हेतु सादर आभार !

sadguruji के द्वारा
September 20, 2016

आदरणीय रमेश अग्रवाल जी ! सादर अभिनन्दन ! पोस्ट के प्रति आपके समर्थन और सहयोग के लिए हार्दिक आभार ! आप सही कह रहे हैं कि जल्दी ही सरकार कुछ कठोर कदम उठायेगी, हम सबको ऐसी उम्मीद करनी चाहिए ! सादर आभार !

sadguruji के द्वारा
September 20, 2016

जम्मू कश्मीर के उड़ी में सेना मुख्यालय पर हुए हमले के बाद पाकिस्तान को अंतराष्ट्रीय मंच अलग-थलग करने की भारत की नीति के सफल होती दिख रही है ! इस हमले में अप्रत्यक्ष रूप से शामिल होने को लेकर पूरी दुनिया में पाकिस्तान की चौतरफा आलोचना हो रही है ! यहाँ तक कि यूएन महासचिव बान की मून ने भी इस हमले की कठोर शब्दों में निंदा की है !

sadguruji के द्वारा
September 20, 2016

मीडिया में प्रकाशित खबरों के अनुसार रूस ने पाकिस्तान के साथ होने वाली ज्वाइंट मिलिट्री एक्सरसाइज करने से मना कर दिया है, जो पाक अधिकृत कश्मीर में अगले माह होनी थी ! इतना ही नहीं, बल्कि उसने एक कदम आगे बढ़कर MI-35 हेलीकॉप्टर डील को भी रद कर दिया हैै ! रूस के इस फैसले से पाकिस्तान को बड़ा झटका लगा है ! भारत की यह कूटनीतिक जीत कही जायेगी !

Jitendra Mathur के द्वारा
September 20, 2016

मैं आपके विचारों एवं भावनाओं से सहमत हूँ आदरणीय सद्गुरु जी । ये भावनाएँ आज सभी देशवासियों के हृदय में हिलोरें ले रही हैं ।

sadguruji के द्वारा
September 20, 2016

आदरणीय जितेंद्र माथुर जी ! हार्दिक अभिनन्दन ! पोस्ट के प्रति व्यक्त किये गए समर्थन हेतु हार्दिक आभार ! आपसे सहमत हूँ कि सारे देश की यही भावना है ! ब्लॉग पर समय देने हेतु सादर आभार !

Shobha के द्वारा
September 21, 2016

श्री आदरणीय सद्गुरु जी आतंकवादी घटना का बहुत क्षोभ था सैनिको के परिवार और बच्चे देख कर आँखों से पानी झर रहा था सैनिक सेना में वतन के लिए लड़ने के लिए आता है न की इस तरह शहीद होने परन्तु इसके बदले में सरकार क्या करती है होना तो युद्ध चाहिए थे परन्तु पाकिस्तान सर फिरों के हाथ में ऐटम का पूरा जखीरा है पाकिस्तान तो बर्बाद मुल्क है चीन पर उसकी नजर है हमें सोच समझ कर कूटनीतिक तरीके से चलना पड़ेगा आपने इन दीनी मूर्खों को नहीं देखा मैने पास से जाना है इनका कैसा ब्रेन वाश किया जाता है यह केवल जनूनी होते हैं समय पर पाकिस्तान से बदला लिया जाएगा |हां इनसे राजनितिक सम्बन्ध तोड़ने चाहिए

Shobha के द्वारा
September 21, 2016

श्री सद्गुरु जी आपके लेख की हैडिंग सटीक है मेरी थीसिस भारत पाक रिश्तों पर है मैं ईरान में उसको किताब में कन्वर्ट करने के लिए पढ़ रही थी मेरा लड़का केवल सात वर्ष का था लेकिन पाकिस्तान परिवार हमारे घर आते थे उसने मुझसे पूछा मॉम आप क्या पढ़ रही हो मानने उसे कहा अपनी थीसिस पढ़ रही हूँ पूछा क्या है मैं बच्चों को नॉलेज के मामले मैं जो पूछते थे हर प्रश्न का उत्तर देती थी उसने मेरी पूरी बात सुनने के बाद कहा आपने अपना समय खराब किया हिंदुस्तान पाकिस्तान के रिश्ते कभी नहीं सुधरेंगे | और गन्दे होंगे मैं बहुत हैरान हुई परन्तु समझ मैं आ गया उसे बच्चा समझ कर हमारे मेहमान आपस में जो बातें की जाती हैं यह समय से पहले बड़ा हो कर निष्कर्ष निकालने लगा है राजेन्द्र जी पाकिस्तानियों और बंग्लादेशियों को हमसे शिकायतें ही शिकायतें थी उनके अनुसार सात पाकिस्तान बनने चाहिए थे | भारत में मुस्लिम पर जुल्म होता है पुलिस भी आपकी सेना भी आपकी उन्हें कैसे समझाएं यह तो हमारे यहां वोट बैंक हैं |भारत की तरक्की रो-रो कर चलेगी जब तक पाकिस्तान के टुकड़े नहीं होती लेकिन बड़ी शक्तियां यह होने नहीं देंगी हाँ चीन की मंडी बनेगा

sadguruji के द्वारा
September 22, 2016

आदरणीया डॉक्टर शोभा भारद्वाज जी ! सादर अभिनन्दन ! आप वरिष्ठ भी हैं और बेहद अनुभवी भी ! आप किसी भी मंच पर जाएँ, उसकी शोभा बन जाती हैं ! आपके जितना अध्ययन और पठन करना हर किसी के लिए संभव नहीं ! आपको राजनीतिक और कूटनीतिक विषयों का अच्छा ज्ञान है ! आपने तो बकायदे रिसर्च भी किया हुआ है ! हम सब का सौभाग्य है कि आपका अनुभव पढ़ने को मिल रहा है, जो कि निसन्देह रूप से किताबी ज्ञान पर भारी है ! सादर आभार !

sadguruji के द्वारा
September 22, 2016

आदरणीया डॉक्टर शोभा भारद्वाज जी ! ब्लॉग पर स्वागत है ! पोस्ट को पसंदकर उसे सार्थकता प्रदान करने के लिए हार्दिक आभार ! आपने सही कहा है कि विश्वकर्मा पूजन का दायरा अब दिनोंदिन बढ़ता ही जा रहा है ! वस्तुतः यह मशीनों, ओजारों, श्रम और श्रमिकों का सम्मान है ! उरई की घटना चिंताजनक तो है ही ! अब हमें कड़ा जबाब पाक को देना होगा ! सादर आभार !


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran