सद्गुरुजी

आदमी चाहे तो तक़दीर बदल सकता है, पूरी दुनिया की वो तस्वीर बदल सकता है, आदमी सोच तो ले उसका इरादा क्या है?

503 Posts

5535 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15204 postid : 1267763

सेना पर शक करना मेरी दृष्टि में सबसे बड़ा देशद्रोह है- जंक्शन फोरम

  • SocialTwist Tell-a-Friend

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
सेना पर शक करना मेरी दृष्टि में सबसे बड़ा देशद्रोह है- जंक्शन फोरम
यूरोप में स्थित 28 देशों के सांझा राजनैतिक एवं आर्थिक मंच यूरोपियन यूनियन की संसद ने मोदी सरकार और भारतीय सेना द्वारा सीमा पार में आतंकियों के खिलाफ की गई सर्जिकल स्ट्राइक यानि सैनिक कार्रवाई की न सिर्फ सराहना की है, बल्कि ऐसी कार्यवाही को अपना पूरा समर्थन भी दिया है. यूरोपीय संसद के उपाध्यक्ष रिजर्ड जैनकी ने कहा है कि इससे एक स्पष्ट संदेश गया कि भारत सीमा पार से आने वाले आतंकवाद को बर्दाश्त नहीं करेगा. यूरोपीय संसद की मासिक पत्रिका में उन्होंने यहाँ तक कह दिया है कि यदि पाकिस्तान की ओर से निकल रहे आतंक को रोका नहीं गया तो, जल्द ही पश्चिम भी इसका निशाना बन जाएगा. अभी भी कई पश्चिमी देश दिनोंदिन बढ़ रहे आतंकवाद के शिकार हो ही रहे हैं.

भारत द्वारा आतंकियों के खिलाफ पाकिस्तान में घुसकर किये गए सर्जिकल आपरेशन को यूरोपीय यूनियन के 28 देशों का समर्थन मिलना एक बहुत बड़ी उपलब्धि है. रूस, बांग्लादेश, अफगानिस्तान और संयुक्त अरब अमीरात पहले ही सर्जिकल स्ट्राइक को समर्थन देकर मोदी सरकार और भारतीय सेना की भरपूर हौसला आफजाई कर चुके हैं. आतंकवाद से लड़ाई जारी रखने के लिए ये समर्थन जरुरी भी था. सर्जिकल स्ट्राइक के बाद भारत के डायरेक्टर जेनरल ऑफ़ मिलिट्री ऑपरेशन्स (डीजीएमओ) लेफ़्टिनेंट जेनरल रणबीर सिंह ने एक प्रेस वार्ता कर जानकारी दी थी कि भारतीय सेना ने नियंत्रण रेखा के पास छिपे आतंकवादियों पर सर्जिकल स्ट्राइक कर कई आतंकवादियों’ को मार दिया है.
5_2016_9_29_131744
ये आतंकवादी नियंत्रण रेखा के साथ लॉन्चपैड्स पर इसलिए एकत्रित हुए थे ताकि सीमापार घुसपैठ कर जम्मू-कश्मीर या भारत के बड़े शहरों पर हमला कर सके. सर्जिकल कार्यवाही में 50 से भी ज्यादा आतंकवादी और उनकी सुरक्षा में लगे दो पाकिस्तानी सैनिक मारे गए थे. इस सैनिक कार्यवाही के बाद कराची से लाहौर तक छाया मोदी का खौफ आज भी कायम है. पाकिस्तानी टीवी चैनल्स पर निगाह डालने से पता चलता है कि इस समय पूरा पाकिस्तान बदहवासी के आलाम में जी रहा है. उसके थिंकटैंक और बुद्धिजीवी इस कदर खौफज़दा हैं कि गाली गलौज और उलजुलूल बकने पर आमादा हो गए हैं. दरअसल उन्हें अब ये डर सता रहा है कि पीओके के बाद अब भारत कहीं इस्लामाबाद, लाहौर और कराची को निशाना न बनाये.

उनका ये डर महज दिमागी फितूर भर है और आतंकवादियों को खुला समर्थन देने के कारण ही उपजा है. पाकिस्तानी जनता, सरकार और वहां की आर्मी को अब ये डर सता रहा है कि पाकिस्तान में चल रही आतंकवाद की चक्की में गेहूं के साथ घुन की तरह कहीं वो भी न पीस जाएँ. पीएम मोदी के सख्त इरादे, जिनमें पाकिस्तानियों को अपनी और मुल्क की तबाही साफ साफ दिख रही है, इसलिए पिछले कुछ दिनों से एक सुर में पूरा पाकिस्तान मोदी मोदी चिल्ला रहा है. हालाँकि भारत का इरादा केवल आतंकवाद ख़त्म करना भर है. भारत के प्रधानमंत्री ने स्पष्ट रूप से कह दिया है कि भारत कभी जमीन का भूखा नहीं रहा है. हमने कभी किसी मुल्क पर आक्रमण का नहीं किया है.

कुछ रोज पहले भारतीय प्रवासियों को समर्पित ‘प्रवासी भारतीय केंद्र’ के उद्घाटन समारोह में दुनिया को संदेश देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि प्रथम विश्व युद्ध और द्वितीय विश्व युद्ध में हमारे 1.5 लाख से ज्यादा जवान शहीद हो गए थे. हमारी यह परंपरा है कि हमने दूसरों के लिए जान गंवाई है. हमारे जवानों ने सदैव दूसरों के लिए बलिदान दिया है. भारतीय सेना पाकिस्तान द्वारा प्रायोजित जिस आतंकवाद से कई दशकों से जूझ रही है और आये दिन अपने सैनिकों का बलिदान दे रही है, उसे अब समूचे विश्व के समर्थन और सहयोग की जरुरत है. भारतीय सेना ने जो सर्जिकल स्ट्राइक किया है, उसका मकसद केवल और केवल आतंकवादियों को करारा सबक सिखाना भर था.
_91446051_d2b3b943-6880-4df0-8da1-754c1bcd71af
मोदी सरकार और भारतीय सेना ने पाकिस्तान के साथ सटी नियंत्रण रेखा पर सर्जिकल स्ट्राइक्स सिर्फ और सिर्फ आतंकी हमलों को रोकने के मकसद से किया था, हालाँकि आतंकी हमले और पाकिस्तानी सेना द्वारा गोलीबारी कर सीजफायर का उल्लंघन अभी भी जारी है. यह रुकने वाला भी नहीं है. पिछले 70 सालों में हुए तीन युद्ध और सैकड़ों सरहदी झड़पों के बाद भी ये सब कहाँ रुका है. कई देश कह रहे हैं कि पाकिस्तान से बातचीत करो. सब जानते हैं कि पाकिस्तान में असली ताकत वहां की सेना के पास है, अतः नवाज़ शरीफ से बातचीत करना फ़िज़ूल है. सीमा पर पाकिस्तानी सेना को मुंहतोड़ जबाब देने और भविष्य में समय समय पर और सर्जिकल आपरेशन करने के सिवा अब भारत के पास कोई विकल्प शेष नहीं बचा है.

सर्जिकल स्ट्राइक के बाद न सिर्फ प्रधानमंत्री मोदी के 56 इंच छाती होने का दावा सही साबित हुआ है, बल्कि मोदी की लोकप्रियता एक बार फिर आसमान को छूती हुई नज़र आ रही है. अब अरविन्द केजरीवाल, दिग्विजय सिंह, संजय निरुपम और पी चिदम्बरम जैसे नेता इससे जलभुनकर मोदी सरकार और सेना की सर्जिकल स्ट्राइक पर ही सवाल खड़े करें तो क्या कहा जाएगा, सिर्फ यही कि देश के भीतर भी एक सर्जिकल स्ट्राइक की जरूरत है, जो जनता द्वारा ऐसे दिशाहीन और असफल नेताओं को राजनीति से उखाड़ फेंकने से हो. सेना पर शक करना मेरी दृष्टि में सबसे बड़ा देशद्रोह है. सेना भी चाहती है कि मोदी सरकार सर्जिकल स्ट्राइक की वीडियो फुटेज जारी करे, अब फैसला केंद्र सरकार को लेना है. अरविन्द केजरीवाल संयुक्त राष्ट्र का सहारा लेकर कह रहे हैं कि उसने नियंत्रण रेखा पर सर्जिकल स्ट्राइक करने के भारत के दावों पर सवाल उठाया है.

संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून के प्रवक्ता स्टीफ़ान दुजारिक ने कहा है कि संयुक्त राष्ट्र के सैन्य प्रेक्षक दल ने भारत और पाकिस्तान नियंत्रण रेखा पर कोई गोलीबारी सीधे तौर पर नहीं देखी है. संघर्ष विराम के इन कथित उल्लंघन के बारे में हमें खबरों से जानकारी मिली है. प्रेक्षक दल उस सिलसिले में संबंधित अधिकारियों से बातचीत कर रहा है. संयुक्त राष्ट्र का सैन्य प्रेक्षक दल भारत और पाकिस्तान के बीच नियंत्रण रेखा पर 1971 में लागू किए गए संघर्ष विराम की निगरानी करता है. क्या निगरानी करता है, भगवान् जानें? उसे कुछ भी नहीं पता. संयुक्त राष्ट्र में भारत के राजदूत सैय्यद अकबरउद्दीन ने संयुक्त राष्ट्र के दावों को ख़ारिज करते हुए बिलकुल सही कहा है कि किसी के देखने या न देखने से सच्चाई बदल नहीं जाती.

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
आलेख और प्रस्तुति= सद्गुरु श्री राजेंद्र ऋषि जी, प्रकृति पुरुष सिद्धपीठ आश्रम, ग्राम- घमहापुर, पोस्ट- कन्द्वा, जिला- वाराणसी. पिन- 221106
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (8 votes, average: 4.88 out of 5)
Loading ... Loading ...

12 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

rameshagarwal के द्वारा
October 5, 2016

जय श्री राम आदरणीय सद्गुरुजी जिस तरह देश के कुछ नेता और फ़िल्मी कलाकार सेना के सर्जिकल स्ट्राइक के खिलाफ प्रतिक्रिया दे रहे वे निंदनीय के साथ राष्ट्र विरोधी और सेना के प्रति अविश्वास पैदा करने वाला विश्व के कई राष्ट्रों ने मोदीजी और सेना की कार्यवाही की तारीफ़ की ऐसे में कांग्रेस के संजय निरुपम और चिदंबरम और केजरीवाल के व्यान शर्मशार करने वाले है ये सन गोपनीय कार्य होते जिसके प्रूफ की जरूरत नहीं लेकिन शयद हमारे देश में देश से ज्यादा तुच्छ राजनीती करना एक चलन हो गया.कांग्रेस ने व्यान से किनारा किया लेकिन यदि कांग्रेस में नैतिकता है तो ऐसे लोगो को पार्टी से निकाले.सुन्दर लेख के लिए बधाई.

एल.एस. बिष्ट् के द्वारा
October 6, 2016

आदरणीय सदगुरू जी बहुत खूब लिखा है आपने ……सेना पर शक करना सबसे बडा देशद्रोह  । वाकई बहुत कुछ कह गई यह एक मात्र पंक्ति । साधुवाद

sadguruji के द्वारा
October 7, 2016

आदरणीय रमेश अग्रवाल जी ! जय श्रीराम ! ब्लॉग पर स्वागत है ! भारत के भीतर भी सर्जिकल स्ट्राइक की जरुरत है ! पीएम मोदी को सर्जिकल स्ट्राइक पर सपोर्ट करने वाले नेता कुछ रोज बाद ही कैसे गिरगिट की तरह से अपना रंग बदलने लगे, ये पूरे हिंदुस्तान ने देखा ! चुनाव के समय जनता ऐसे धोखेबाज नेताओं को सबक सिखाये ! सादर आभार !

sadguruji के द्वारा
October 7, 2016

आदरणीय विष्ट जी ! सादर अभिनन्दन ! पोस्ट की सराहना कर उसे सार्थकता प्रदान करने के लिए धन्यवाद ! सेना पर शक करने से बड़ा देशद्रोह और क्या होगा ! लादेन के मारे जाने के बाद अमेरिका में किसी ने भी सरकार और सेना से साबुत नहीं माँगा और एक हमारा देश भारत है, जहाँ पर जयचंदों की भरमार है ! हो सकता है कि कुछ लोग स्लीपर सेल यानी सहयोगी और समर्थक के रूप में पाकिस्तान और आतंकियों से जुड़े हों, इसलिए सबूत दो.. सबूत दो.. चिल्ला रहे हैं ! सभी देशभक्त हिंदुस्तानियों की ओर से प्रधानमंत्री मोदी ओर देश की बहादुर सेना को सलाम ! प्रतिक्रया देने के लिए सादर आभार !

sadguruji के द्वारा
October 7, 2016

आदरणीय डॉ0 कुमारेन्द्र सिंह सेंगर जी ! सादर अभिनन्दन ! ‘कहाँ से चले थे कहाँ आ गये हैं – ब्लॉग बुलेटिन’ में इस लेख को शामिल करने के लिए हार्दिक आभार ! अनेको बार ब्लॉग बुलेटिन पर जाकर मैंने आपके अतिसुन्दर ओर पठनीय ब्लॉग को देखा ओर पढ़ा है ! पाठकों में संस्कारित और पठनीय साहित्य के प्रति रूचि जगाने के लिए आप बहुत अनुपम, शिक्षाप्रद, अनुकरणीय और सुन्दर प्रयास कर रहे हैं ! बहुत बहुत शुभकामनाएं !

sadguruji के द्वारा
October 7, 2016

पाकिस्तान पीपल्स पार्टी के चेयरमैन बिलावल भुट्टो ज़रदारी ने ट्वीट किया है, “इसकी कोई अहमियत नहीं है कि नॉन स्टेट एक्टर क्या कह रहे हैं, हमारा मीडिया क्या चाहता है, हमारे नेता क्या चाहते हैं, इसकी भी अहमियत नहीं है. भारत और पाकिस्तान के लोग अमन-शांति चाहते हैं.” कितनी बेवकूफी भरी बात कही है. आतंकवादी क्या कर रहे हैं, इससे कोई मतलब ही नही? पाकिस्तान के नेता और बुद्धिजीवी भारत के प्रति गाली ग्लौज कर रहे हैं, इससे भी कोई मतलब नही? भारत की जनता अमन की दुहाई देकर और अमन के लिये कोशिश करके थक चुकी है. बातों से नही मानने पर ही हमे हथियार उठाना पड़ा है.

sadguruji के द्वारा
October 7, 2016

बिलावल भुट्टो का कहना है की कश्मीर समस्या का हल युद्ध नहीं है. कश्मीर के मुद्दे पर पाकिस्तान को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की गाइडलाइंस के मुताबिक ही व्यवहार करना चाहिए. बिलावल भुट्टो कुछ समय पहले तो यह दावा करते थे की चाहे जैसे भी हो, वो कश्मीर ले के रहेंगे. सर्जिकल स्ट्राइक होते ही अमन की बातें करने लगे हैं. सही कहा गया है की ज्यादा बक बक करने वाले लोग समझाने बुझाने या फिर बातों से नही मानते हैं.

sadguruji के द्वारा
October 7, 2016

पाक अधिकृत कश्मीर में भारतीय सेना के सर्जिकल स्ट्राइक को पाकिस्तान द्वारा बार-बार नकारे जाने पर भाजपा नेता सुब्रमण्यन स्वामी ने कहा है कि पाक सरकार को वीडियो चाहिए तो रूस से पूछ ले ! रूस ने स्पष्ट रूप से दुनिया को ये बता दिया है कि आप इसे मना नहीं कर सकते हैं, क्योकि उसके पास पाक अधिकृत कश्मीर में भारतीय सेना द्वारा किये गए सर्जिकल स्ट्राइक का टेप है !

sadguruji के द्वारा
October 7, 2016

नवाज शरीफ सरकार ने पहली बार पाकिस्तान की सेना को सख्त हिदायत दी है कि आतंकियों का सफाया करना जरूरी है ! अगर ऐसा नहीं किया गया तो दुनिया में पाक को अलग-थलग करने से कोई रोक नहीं पाएगा ! लिहाजा, आतंकी गुटों पर कार्रवाई में सेना और आईएसआई कोई दखलन्दाजी न करे ! ये नवाज के सुधरने के संकेत हैं या फिर दुनिया को बेवकूफ बनाने के लिए धोखेबाजी भरा जुबानी दिखावा भर है, ये तो वक्त ही बताएगा !

सु-मन के द्वारा
October 7, 2016

बहुत बढ़िया पोस्ट ..जय हिन्द

sadguruji के द्वारा
October 7, 2016

आदरणीय सुमन जी ! ब्लॉग पर स्वागत है ! पोस्ट की सराहना कर उसे सार्थकता प्रदान करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद ! भविष्य में भी आपकी प्रतिक्रया की प्रतीक्षा रहेगी ! सादर आभार !


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran