सद्गुरुजी

आदमी चाहे तो तक़दीर बदल सकता है, पूरी दुनिया की वो तस्वीर बदल सकता है, आदमी सोच तो ले उसका इरादा क्या है?

482 Posts

5237 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15204 postid : 1270657

राहुल गांधी की प्रधानमंत्री मोदी पर बेहूदा और गैरजिम्मेदाराना टिप्पणी

  • SocialTwist Tell-a-Friend

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

राहुल गांधी की प्रधानमंत्री मोदी पर बेहूदा और गैरजिम्मेदाराना टिप्पणी, जिसकी मोदी के घोर विरोधी अरविद केजरीवाल तक ने कड़ी निंदा की है. क्या राहुल गांधी को इतनी भी अक्ल नहीं है कि इस समय सर्जिकल स्ट्राइक के मुद्दे पर राजनीति करने की बजाय सेना और पीएम मोदी के साथ एकजुट होकर खड़े रहने की जरुरत है?

नई दिल्ली के जंतर-मंतर पर किसानों को संबोधित करते कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा, ‘जो हमारे जवान हैं जिन्होंने अपना खून दिया है, जम्मू और कश्मीर में खून दिया है, जिन्होंने हिन्दुस्तान के लिए सर्जिकल स्ट्राइक किये हैं, उनके खून के पीछे आप (मोदी) छिपे हैं. उनकी आप दलाली कर रहे हो. ये बिल्कुल गलत है.’ उन्होंने मोदी पर निशाना साधते हुए कहा, ‘भारतीय सेना ने देश के लिए अपना काम किया है, आप अपना करिए.’ राहुल गांधी की इन बातों का क्या अर्थ हैं? देश के अति सुयोग्य और जनता के बीच बेहद लोकप्रिय प्रधानमंत्री को दलाल कह रहे हैं, जबकि सारी दुनिया ये सच्चाई जानती है कि जिस पार्टी से राहुल गांधी जुड़े हैं, उसने बीते 70 साल में दलाली खाने का वर्ल्ड रिकार्ड बनाया हुआ है. ‘दलाली’ खाना कांग्रेस का स्वभाव बन गया था. 2जी, सीडब्ल्यूजी, कोयला घोटाले आदि यूपीए सरकार में ही हुए थे. खुद राहुल गांधी 5000 करोड़ रुपए के नेशनल हेरल्ड घोटाले में जमानत पर हैं. डॉक्टर जाकिर नाइक जैसे देशद्रोही से वर्ष 2011 में राजीव गांधी ट्रस्ट ने 50 लाख रुपए की राशि अनुदान के रूप में प्राप्त किया था.

उस समय ट्रस्ट की सर्वेसर्वा कांग्रेस पार्टी की अध्यक्षा सोनिया गांधी थीं. मोदी जैसे देशभक्त, निष्काम भाव वाले और पूरी तरह से ईमानदार प्रधानमंत्री पर दलाली जैसा हास्यास्पद आरोप लगाना उल्टे भ्रष्ट कांग्रेस के मुंह पर तमांचा मारने जैसा है, जो अपने शासनकाल में हर चीज में दलाली खाने वाली पार्टी बन गई थी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर ‘जवानों के खून की दलाली’ सम्बंधी टिप्पणी मानसिक रोग के शिकार व्यक्ति के वक्तव्य लगते हैं. दरअसल वो अभी तक मोदी से 2014 में मिली बहुत बड़ी सियासी हार को भूल नहीं पाए हैं. उन्होंने कभी स्वयं कहा था, ‘मैं आपको बताता हूं आखिरी बार जब मैं विपश्यना के लिए गया तो मैं असमंजस में था. सोचा कि 2014 में बड़ी हार की वजह राहुल गांधी है, ये जानकर मानसिक तनाव हुआ. सिर्फ यही सोचता रहा कि क्या मेरी राजनीति गलत है?’ राहुल गांधी ने सच कहिये या फिर मन की कड़वाहट कहिये, वो बयान कर ही दी थी. वो 2014 की बड़ी हार के बाद बर्मा में विपश्यना करने गए थे, किन्तु उनपर साधना का कोई असर दिखता नहीं है. विपश्यना करने वाला शांतचित्त और प्रेममय हो जाता है.
images
किन्तु इसके ठीक उलट राहुल गांधी आज भी बचपन में कभी चाय बेचने वाले पीएम मोदी से बेहद नफरत करते हैं और खुद को पीएम की कुर्सी का असली खानदानी वारिस समझते हैं. राहुल गांधी कांग्रेस के युवराज हो सकते हैं, पर आजाद हिंदुस्तान के नहीं. बहुत गुलामी कर लिया हमलोंगों ने वंशवाद, खानदान और परिवारवाद की, अब नेहरू खानदान और गांधी के नाम पर जनता को मूर्ख और गुलाम बनाने की राजनीति नहीं चलेगी. राष्ट्रीय राजनीति में मोदी के आने से देश में एक बहुत बड़ा बदलाव आया है. सारी दुनिया आज हर क्षेत्र में जारी भारत की जोरदार आर्थिक उन्नति, बहुत सफल विदेश नीति और गहरे रसूख को सलाम कर रही है. पहले देश की सेना पाकिस्तानी सेना से लड़ती थी और अब सीमा पार कर सीधे आतंकियों पर प्रहार करना शुरू कर दी है. प्रधानमंत्री तो अपने मुंह से सेना के सर्जिकल स्ट्राइक की चर्चा ही नहीं कर रहे हैं. उन्होंने अपने मंत्रियों को भी इसकी चर्चा न करने की हिदायत दे रखी है. ऐसे में राहुल गांधी की पीएम मोदी के लिए ‘जवानों के खून की दलाली’ वाली टिप्पणी बेहूदा और गैरजिम्मेदाराना लगती है.

ये उनके मन का भय भी जाहिर करती है कि आगामी चुनावों में सर्जिकल स्ट्राइक की वजह से कहीं सब जगह कांग्रेस का सूपड़ा साफ़ न हो जाए और कांग्रेस के हारने का ठीकरा फिर से कहीं उनके माथे पर आकर न फूटे. वो भावी पीएम तो क्या विपक्ष के नेता कहलाने लायक भी नहीं लगते. ज़रा भी देश, प्रधानमंत्री और सेना से प्रेम और शर्मोहया उनके भीतर बची हो तो तुरन्त उन्हें माफ़ी मांगनी चाहिए. सच कहूँ तो राहुल गांधी का भाषण सुनकर मुझे कभी नहीं लगा कि हिंदुस्तान का कोई परिपक्व नेता या एक भावी प्रधानमंत्री भाषण दे रहा है. किसी प्रादेशिक चुनाव में भी जाकर तोते की तरह बस मोदी मोदी रटते हैं और बिना सोचे समझे उलजुलूल भाषण देते हैं. वो पीएम मोदी के बराक ओबामा और अमिताभ बच्चन के साथ सेल्फी लेने पर अपने दिल की जलन जाहिर कर देते हैं. पत्रकारों द्वारा कुछ ऐसा वैसा सवाल पूछने पर वो गुस्से में आ हिंदी छोड़ अंग्रेजी बूकने लगते हैं. वस्तुतः उनका रहन सहन विदेशी है और वो देखने में भी हिंदुस्तानी कम विदेशी ज्यादा लगते हैं. इसलिए चुनाव के समय उनका गरीबों के बीच जाना एकदम दिखावटी लगता है. भारतीय जनता उन्हें प्रधानमंत्री के रूप में पिछले लोकसभा चुनाव में अस्वीकार कर चुकी है.

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (12 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

22 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

sadguruji के द्वारा
October 8, 2016

मोदी विरोध के नाम पर किसी भी तरह से सत्ता पाने की हवस ने नेताओं को अंधा कर दिया है ! यही कारण है की वो बेहूदा और पाकिस्तान के फायदे वाला जयचन्दी बोल बोल रहे हैं !

sadguruji के द्वारा
October 8, 2016

राहुल गाँधी जो बोलते हैं उसको वे स्वयं नही जानते कि वे क्या बोल गए हैं ! किन्तु यह देश के लिये बेहद खतरनाक भी है ! पाकिस्तान ऐसे ही बयानवीरों को हीरो बना उसका गलत फायदा उठा रहा है !

sadguruji के द्वारा
October 8, 2016

राहुल गांधी जो बोलते हैं उसको वे स्वयं नही जानते कि वे क्या बोल गए । जब उनकी पार्टी के तथाकथित बुद्विजीवियों द्वारा बताया जाता है कि महोदय आप ने फला वक्तव्य तो गलत बोल दिया तब उनकी समझ में आता है कि गलती हो गई फिर कथन का खण्डन, मंडन किया जाता है ! आदरणीय सूर्यभान जी !

sadguruji के द्वारा
October 8, 2016

केन्द्र की सत्ता से दूर रहने की घोर निराशा और हताशा मे कई विपक्षी नेताओं का मानसिक संतुलन बिगड़ चुका है ! उनके बिना सोचे समझे दिये गये उलजुलूल बयान इस बात का सुबूत हैं ! देश और सेना सर्वोपरि है, इस पर प्रहार हो तो आम नागरिकों को जागरूक हो अपनी आपत्ती जरूर दर्ज करनी चाहिये !

sadguruji के द्वारा
October 9, 2016

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार राहुल गांधी के ‘खून की दलाली’ वाले बयान के खिलाफ चंदौली के सीजेएम कोर्ट में परिवाद दाखिल दाखिल किया गया है ! परिवाद में कहा गया है कि राहुल का बयान बेहद अशोभनीय है और ये बयान आम लोगों को पीड़ा पहुंचाने वाला है ! अगर इस मामले में राहुल गांधी पर आरोप सिद्ध हो जाता है तो उन्‍हें 2 साल की सजा या जुर्माना या दोनों हो सकता है !

sadguruji के द्वारा
October 9, 2016

‘खून की दलाली’ वाला विवादित बयान देकर फंसे राहुल गांधी ने ट्वीट के जरिये अपने बयान पर लीपापोती करते हुए अब सफाई देने की कोशिश की है. उन्होने कहा है कि ”वो सर्जिकल स्ट्राइक का समर्थन करते हैं लेकिन राजनीतिक पोस्टर में सेना का इस्तेमाल नहीं होना चाहिए.”

sadguruji के द्वारा
October 9, 2016

सर्जिकल स्ट्राइक के बाद राहुल गाँधी ने पीएम मोदी की तारीफ करते हुए कहा था, ”जब प्रधानमंत्री जी, एक प्रधानमंत्री के लायक काम करते हैं तो मैं भी उनका समर्थन करता हूं. मैं उनको धन्यवाद देना चाहता हूं कि उन्होंने ढाई साल में पहला एक्शन लिया है जो प्रधानमंत्री के लायक एक्शन है, और मेरा उनको पूरा समर्थन है.” वो अपनी इस बात पर छह दिन भी नही टिक सके और प्रधानमन्त्री मोदी की बेहद आपत्तिजनक ढंग से आलोचना करनी शुरु कर दी !

sadguruji के द्वारा
October 9, 2016

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के ‘खून की दलाली’ वाले बयान की कड़ी निंदा करते हुए कहा, “सरहद पर हमारे जवानों ने अपनी जान की बाजी लगाकर बड़ी मेहनत से सर्जिकल स्ट्राइक की है और आतंकी ठिकानों को नेस्तानबूत किया ! इसके लिए हम सेना को पहले भी बधाई दे चुके हैं और फिर से बधाई देते हैं ! राहुल गांधी जी ने जो शब्दों का इस्तेमाल किया है वो सही नहीं है ! सेना की शहादत को खून की दलाली कहा है वो गलत है ! ये समय ऐसा है जब सरहद पर तनाव है ! हम सब को अपने राजनैतिक मतभेद भुलाकर और पीएम सुरक्षा के लिए जो भी कदम उठा रहे हैं, उसके लिए सारी पार्टियों को उनका साथ देना चाहिये ! किसी भी तरह की राजनीति नहीं होनी चाहिये !” अरविन्द केजरीवाल एक चतुर राजनीतिज्ञ हैं ! वो जानते हैं की इस समय पूरा देश प्रधानमन्त्री मोदी के साथ ख्डा है, इसलिये कुछ गलत बोला तो बड़ी छिछालेदर होगी और जनता के बीच छवि भी खराब होगी ! राहुल गाँधी के पास ऐसी सोच और समझ का अभाव है ! यही उनकी असफलता का कारण भी है !

sadguruji के द्वारा
October 9, 2016

सर्जिकल स्ट्राइक के बाद देशभर मे जिस तरह से देशभक्ति और राष्ट्रवाद की भावना से भरा माहौल है, उसमे राहुल गांधी के ‘खून की दलाली’ वाले बयान ने बीजेपी को जनता के बीच जाने का एक बहुत बड़ा मुद्दा दे दिया है ! बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने इसे सेना और जवानों का अपमान करार दिया है !

sadguruji के द्वारा
October 9, 2016

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने दलाली शब्द को कांग्रेस से जुड़ा बताते हुए कहा है कि ‘राहुल गांधी का बयान जताता है कि उनके लिए जवानों के खून का कोई मोल नहीं है ! जिस समय देश में बड़ा खतरा मंडरा रहा हो, सेना के जवान आतंकियों और देश के दुश्मनों से लड़ रहे हों, ऐसे में ये बयान उनके मनोबल को गिराने वाला है !’ दरअसल अब ये एक भावनात्मक मुद्दा बन गया है, जिसकी गूँज आगामी चुनाओं मे जोरशोर से सुनाई देगी !

sadguruji के द्वारा
October 9, 2016

राजनीतिक विश्लेषकों का मत है की राहुल गांधी के ‘खून की दलाली’ वाले बयान के कारण यूपी में लगभग एक महीने तक चली उनकी किसान यात्रा का राजनीतिक लाभ मिलने मे अब भारी संदेह उत्पन्न हो गया है ! राहुल गाँधी के विवादित बयान का यूपी मे बीजेपी राजनीतिक फायदा उठाने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ेगी !

sadguruji के द्वारा
October 9, 2016

राजनीतिक पंडितों के अनुसार, राहुल गांधी ने जिस तरह से जवानों के ‘खून की दलाली’ का आरोप पीएम मोदी पर लगाया है, उससे बीजेपी ही नही बल्कि देश की अधिकतर जनता भी उन पर नाराज और हमलावर हो चुकी है ! इस बात की पूरी संभावना है कि अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों में ये एक बड़ा चुनावी मुद्दा बनेगा और कांग्रेस को उत्तर प्रदेश और पंजाब के चुनाओं में गहरा झटका लगेगा !

डॉ अशोक भारद्वाज के द्वारा
October 9, 2016

 श्री सद्गुरु जी क्या राहुल गांधी ,उदासीन लीडर पार्ट टाईम स्टेट्समैन  की प्रधानमंत्री मोदी पर बेहूदा और गैरजिम्मेदाराना टिप्पणी इस लायक थी कांग्रेसी उनका बचाव करने आते एक शब्द पर दस -दस सफाई पेश करते यह देश का दुर्भाग्य है कांग्रेस जैसी कभी सिद्धांत वादी पार्टी इतना नीचे गिर गयी टचिंग मन को छूने वाला लेख

rameshagarwal के द्वारा
October 9, 2016

जय श्री राम आदरणीय सद्गुरु जी जब से मोदीजी प्रधान मंत्री बने है विरोधियो की नीद ख़राब हो गयी कांग्रेस वाले समझते है देश का शासन केवल गाँधी परिवार ही चला सकता जो न समझी है सेना और सरकार के इस सह्सिल कार्य की प्रसंशा की जगह कुछ नेताओ ने जिस तरह के व्यान दिए वे निंदनीय थे लेकिन राहुल गांधी ने तो निंदा और राजनैतिक मर्यादाओं की सारी सीमाए पार कर दी पूरा देश क्रोधित है क्योंकि ये सेना का अपमान है ,इससे ये पता चल गया की वे एक संसद बन्ने लायक भी नहीं है कांग्रेस वाले भी क्रोधित हो रहे होगे लेकिन बोल नहीं सकते इन नेताओं को अदालत भी तो सजा नहीं देती.सुन्दर लेख के लिए बधाई.

Shobha के द्वारा
October 11, 2016

श्री आदरणीय सद्गुरु जी पाकिस्तान और कांग्रेस अपनी साख बचाने का पूरी कोशिश कर रहे हैं पाकिस्तान ने कहा है आज से पांच वर्ष पहले भारतीय सेना के कमांडो ४८ घण्टे तक पीओके में रहे उन्होंने आठ सोल्जर मारे और तीन के सर भारत ले गए कांग्रेस तुरन्त शोर मचाने लगी हमारे समय में भी मिशन अंजाम पर पहुंचा था लेकिन हमने सेना का काम था ढिंढोरा नहीं पीटा हर तरह सेना के मिशन को हल्का करने की कोशिश कर रहे हैं बहुत बढ़िया लेख सही है राज्य में चुनाव है मोदी के खिलाफ बोलते हैं जैसे भारत इनकी बपौती है

Shobha के द्वारा
October 11, 2016

श्री आदरणीय सद्गुरु जी पाकिस्तान के खिलाफ सेना टो पर खड़ी रहती हैं उन्हें अब डक न कर कार्यवाही करने की पूरी इजाजत है सेना का मौरेल भी हाई है बहुत अच्छा लेख |

sadguruji के द्वारा
October 11, 2016

आदरणीय डॉ अशोक भारद्वाज जी ! सादर अभिनन्दन ! लेख को मन को छूने वाला महसूस करने के लिए हार्दिक आभार ! आपकी बात से सहमत हूँ कि यह देश का दुर्भाग्य ही है कि कभी सिद्धांतवादी और देशभक्त रही कांग्रेस पार्टी आज इतना नीचे गिर गई है कि पाकिस्तान की भाषा बोलने लगी है ! सादर आभार !

sadguruji के द्वारा
October 11, 2016

आदरणीय रमेश अग्रवाल जी ! ब्लॉग पर स्वागत है ! ‘खून की दलाली’ वाला बेहूदा बयान देने के लिए राहुल गांधी की जितनी भी आलोचना की जाए, वो कम ही है ! आपने सही कहा है कि प्रधानमंत्री पद तो छोड़िये, वो सांसद और विधायक बनने के लायक भी नहीं हैं ! लेख को सुन्दर महसूस करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद !

sadguruji के द्वारा
October 11, 2016

आदरणीय डॉ. शोभा भारद्वाज जी ! ब्लॉग पर स्वागत है ! आपने बिलकुल ठीक कहा है कि इस समय कांग्रेस और पाकिस्तान दोनों अपनी साख बचाने में जुटे हुए हैं ! वे एक दूसरे की मदद करते हुए प्रतीत हो रहे हैं ! पाकिस्तानी मीडिया राहुल गांधी को आजकल खूब तवज्जो दे रही है ! क्यों न दे, वो उलजुलूल बयान देकर पास्किस्तान की भरपूर मदद भी तो कर रहे हैं ! आप सही कह रही हैं कि कांग्रेसियों ने देश को अपनी बपौती समझ रखा था ! उन्होंने जो लूटपाट मचा रखी थी उसे मोदी जैसा कोई त्यागी और ईमानदार लीडर ही रोक सकता था ! सादर आभार !

sadguruji के द्वारा
October 11, 2016

आदरणीय डॉ. शोभा भारद्वाज जी ! हार्दिक अभिनन्दन ! आपसे सहमत हूँ कि इस समय सेना को पाकिस्तान से निपटने की भरपूर छूट मिली हुई है ! यही नहीं बल्कि उसे मांग के अनुसार हथियार और गोला बारूद भी दिया जा रहा है ! सेना को सीमा पार तीन-चार किलोमीटर तक आतंकियों से निपटने की खुली छूट देना जरुरी है ! प्रतिक्रया देने के लियेव सादर आभार !

Hines के द्वारा
November 5, 2016

This article acihveed exactly what I wanted it to achieve.

sadguruji के द्वारा
November 5, 2016

आदरणीय महोदय ! ब्लॉग पर आपका स्वागत है ! पोस्ट की सराहना करने और ब्लॉग पर आकर प्रतिक्रिया देने के लिए सादर धन्यवाद !


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran