सद्गुरुजी

आदमी चाहे तो तक़दीर बदल सकता है, पूरी दुनिया की वो तस्वीर बदल सकता है, आदमी सोच तो ले उसका इरादा क्या है?

530 Posts

5763 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15204 postid : 1290886

भूतपूर्व सैनिक की ख़ुदकुशी दुखद है, किन्तु शहादत का दर्जा देना गलत है

  • SocialTwist Tell-a-Friend

भूतपूर्व सैनिक की ख़ुदकुशी दुखद है, किन्तु उसे शहादत का दर्जा देना गलत है. सीमा पर देश की खातिर अपनी जान न्योछावर करने वाले सैनिक ही शहीद कहलाने के अधिकारी हैं और शहादत का दर्जा भी सही मायनों में उन्हें ही हासिल होना चाहिए.

‘वन रैंक, वन पेंशन’ लागू करने का जो काम 40 सालों में कांग्रेस न कर सकी, वो जटिल काम मोदी सरकार ने कर दिखाया, किन्तु फिर भी एक पूर्व सैनिक रामकिशन ग्रेवाल ने दिल्ली में मंगलवार शाम को वन रैंक वन पेंशन का लाभ न मिलने पर खुदकुशी कर ली. इस दुखद घटना का लाभ उठाने के लिए सियासी संग्राम शुरू हो गया. राहुल गांधी पूर्व सैनिक रामकिशन ग्रेवाल के परिजनों से मिलने आरएमएल अस्पताल गए ताकि वो इस मुद्दे पर अपनी राजनितिक रोटी सेंक सकें. अस्पताल के नियम तोड़कर रामकिशन ग्रेवाल के परिवार से मिलने के लिए जबरदस्ती की गई कोशिश के चलते राहुल गांधी और दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया सहित कुछ अन्य नेता कुछ देर के लिए पुलिस हिरासत में लिए गए और कुछ देर बाद रिहा कर दिए गए. राहुल गांधी दो बार गिरफ्तारी देने का ड्रामा किये और पुलिस की बस में बैठकर हंसते मुस्कुराते हुए फोटो खिंचाते रहे. इससे जग जाहिर हो गया कि वो रामकिशन ग्रेवाल के शोक संतप्त परिजनों से सहानुभूति दर्शाने नहीं, बल्कि एक सैनिक की ख़ुदकुशी पर घटिया राजनीति करने भर को गए थे. पूर्व सैनिक के परिजनों को मंदिर मार्ग थाने में संरक्षण दिए जाने पर राहुल गांधी ने पुलिस पर अपना रोब झाड़ने की असफल कोशिश भी की. रामकिशन ग्रेवाल के परिजनों को वो अपने साथ ले जाने के चक्कर में थे. यदि वो अपने इस मकसद में कामयाब हो जाते तो दिल्ली में न जाने कितना हंगामा होता और दिल्ली के लोंगो को न जाने कितनी परेशानी झेलनी पड़ती.
l_rahul-1478095770jj
पुलिस यदि उन्हें राहुल गांधी के साथ जाने देती तो दिल्ली में और भी घटिया दर्जे की राजनीति होती. दिल्ली पुलिस ने पूरी सूझबूझ और संयम से काम लेते हुए बिल्कुल सही काम किया. उसकी जितनी भी तारीफ़ की जाए वो कम है. आत्महत्या करने वाले 70 वर्षीय पूर्व सैनिक राम किशन ग्रेवाल हरियाणा के भिवानी जिले के रहने वाले थे. वो अपने तीन साथियों के साथ वन रैंक, वन पेंशन (ओआरओपी) के मुद्दे पर रक्षा मंत्रालय को ज्ञापन सौंपने के लिए दिल्ली आए हुए थे. दिनांक 31 अक्टूबर को उन्होंने अपना ज्ञापन रक्षा मंत्रालय को दिया था, किन्तु मानसिक रूप से वो इतने हताश और निराश थे कि रक्षा मंत्रालय के जबाब का कुछ रोज तक इन्तजार तक नहीं किये और ज्ञापन देने के अगले ही दिन जवाहर भवन स्थित एक पार्क में दोपहर के समय सल्फास की गोलियां खाकर बेहोश हो गए. सूचना मिलते ही पुलिस उन्हें तत्काल डॉ. राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती कराई, लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका. शाम करीब पांच बजे उनकी मौत हो गई. इसकी खबर मिलते ही देश में ‘डर्टी पॉलिटिक्स’ करने वाले वाले सत्तालोलुप नेताओं की देश में विकासवादी और बेहतरीन शासन चला रही मोदी सरकार से सियासी जंग शुरू हो गई. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल तक ने हर बात के लिए सीधे सीधे प्रधानमंत्री मोदी को ही कोसना शुरू कर दिया. मोदी ही इनके एकमात्र सबसे बड़े राजनीतिक प्रतिद्वंदी हैं, जो हर बात के लिए जिम्मेदार हैं.

सर्जिकल स्ट्राइक के मुद्दे पर और सेना के जवानों का प्रधानमंत्री मोदी के प्रति बढ़ता प्रेम व् विश्वास देखकर बैकफुट पर आ गई विपक्ष इसी बहाने केंद्र सरकार के खिलाफ बड़ी बेशर्मी से सड़क पर उतर आई. जैसे ही बुधवार की सुबह राम किशन के परिजन डॉ. राम मनोहर लोहिया अस्पताल पहुंचे, वैसे ही मौत पर भी ओछी राजनीति करने वाले नेता डॉ. राम मनोहर लोहिया अस्पताल पहुँचने शुरू हो गए, ताकि राम किशन के परिजनों से सहानुभूति दर्शाने के बहाने मिलें और उन्हें अपने साथ मिला ‘डर्टी पॉलिटिक्स’ का डर्टी खेल खेलें. पुलिस ने दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को अस्तपताल के भीतर नहीं जाने दिया और हंगामा खड़ा करने पर उन्हें हिरासत में ले लिया और कुछ देर बाद रिहा कर दिया. लेडी हार्डिंग हॉस्पिटल जहाँ पर पूर्व सैनिक राम किशन ग्रेवाल का पोस्टमॉर्टम किया गया, वहां पर अपनी राजनीतिक रोटी सेंकने में लगे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को हिरासत में लिया गया और उन्हें आरके पुरम थाने लाने के बाद रिहा कर दिया गया. सीमा पर शहीद होने वाले सैनिकों के परिजनों से मिलने नहीं जाने वाले राहुल गांधी ने वन रैंक वन पेंशन के मुद्दे पर जंतर-मंतर पर खुदकुशी करने वाले पूर्व सैनिक रामकिशन ग्रेवाल को शहीद तक घोषित कर दिया. देश का प्रधानमंत्री बनने का सपना देखने वाले राहुल गांधी को ये मालूम न हो कि शहीद किसे कहते हैं, ये संभव नहीं.
Subedar-Ram-Kishan-GrewalLASTCALLEXSERVICMAN
सब जानते हैं कि ये सब ड्रामा वोटों की ओछी राजनीति के सिवा और कुछ नहीं. मीडिया पर प्रकाशित खबरों के अनुसार दिल्ली पुलिस रामकिशन ग्रेवाल के पार्थिव शरीर और उनके परिजनों को लेकर भिवानी जिले के बामला गांव पहुँच गई है, जहाँ उनका अंतिम संस्कार होना है. खबर है कि राहुल गांधी, अरविन्द केजरीवाल सहित अन्य कई नेता अपनी ‘डर्टी पॉलिटिक्स’ जारी रखने के लिए पूर्व सैनिक रामकिशन ग्रेवाल के अंतिम संस्कार में शामिल होंगे. रामकिशन ग्रेवाल की दुखद मौत के बाद कांग्रेस तथा आप समेत कई राजनीतिक दल केन्द्र सरकार पर वन रैंक, वन पेंशन (ओआरओपी) ठीक से लागू नहीं करने का जो आरोप लगा रहे हैं, उसमे सच्चाई कम राजनीति ज्यादा हैं. ‘वन रैंक, वन पेंशन’ जैसा जटिल मुद्दा हल कर भारतीय सेना के लिए एक ऐतिहासिक कार्य करने पर मोदी सरकार से उनकी जलन समझ में आती हैं, किन्तु ‘वन रैंक, वन पेंशन’ को लागू करने में हो रही कुछ तकनीकि त्रुटियों को लेकर घटिया राजनीति करना शर्म की बात है. सूबेदार रामकिशन ग्रेवाल की ख़ुदकुशी दुखद हैं, किन्तु उसे शहादत का दर्जा देना गलत हैं. रक्षा मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार पूर्व फौजी रामकिशन ग्रेवाल को वन रैंक वन पेंशन का लाभ मिल रहा था. उन्हें छठे वेतन आयोग की सिफारिशों के हिसाब से पेंशन लाभ दिया जा रहा था, लेकिन भिवानी की एसबीआइ शाखा की तकनीकि गलती के कारण कम पैसा मिल रहा था. सरकार का कहना है कि अब इस मामले की जांच की जाएगी.

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
आलेख और प्रस्तुति= सद्गुरु श्री राजेंद्र ऋषि जी, प्रकृति पुरुष सिद्धपीठ आश्रम, ग्राम- घमहापुर, पोस्ट- कन्द्वा, जिला- वाराणसी. पिन- 221106
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~



Tags:     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (8 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

12 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

sadguruji के द्वारा
November 5, 2016

विदेश राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह ने रामकिशन ग्रेवाल को कांग्रेस का कार्यकर्ता बताते हुए कहा, ”वो कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़े थे और कांग्रेस के कार्यकर्ता थे. लेकिन हमारे सैनिक थे, उनके निधन पर दुख है.” उन्होने ने कहा, ”दिक्कतें जो वो झेल रहे थे वो ओआरओपी से संबंधित नहीं थीं.”

sadguruji के द्वारा
November 5, 2016

विदेश राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह ने रामकिशन जी की समस्या का जिक्र करते हुए कहा, “समस्या बैंक के साथ थी, बैंक ने कहा कागज़ दिखाइए हम पैसे देंगे. ओआरओपी से समस्या नहीं थी, उनको 22 हज़ार रुपए पैंशन मिल रही थी. बैंक को काग़ज़ दिखा देते तो बढ़ जाती.”

sadguruji के द्वारा
November 5, 2016

वन रैंक, वन पेंशन (ओआरओपी) के मुद्दे और पूर्व सैनिक की खुदकुशी पर पत्रकारों से बात करते हुए विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह ने कहा, “वन रैंक, वन पेंशन (ओआरओपी) मे कुछ त्रुटियां हैं जिसे रेड्डी कमीशन ठीक कर रहा है. उसके लिए ये सैनिक इंतज़ार नहीं कर रहे, ये ग़लत है.”

sadguruji के द्वारा
November 5, 2016

जनरल वीके सिंह ने कहा कि ओआरओपी चालीस साल पुरानी मांग थी, जिसे मोदी सरकार ने पूरा किया है. उन्होने कहा कि भूतपूर्व सैनिकों की अधिकांश मांगे ओआरओपी के तहत पूरी की जा चुकी हैं. अब चार पैसे के लिए कोई कहे कि वो एक साल पहले देनी चाहिये थी, यह उचित नही है !

sadguruji के द्वारा
November 5, 2016

विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह ने रामकिशन की आत्महत्या पर सवाल खड़ा करते हुए कहा, “क्या कारण है कि किसी आदमाी ने सल्फास खाया, उसको सल्फास किसने दिया, फिर एक ऑडियो आया, वो सल्फास खाकर बात कैसे कर रहे थे.” जनरल वीके सिंह का सवाल विचारणीय है. रामकिशन जी की आत्महत्या की विधिवत जांच होनी चाहिये. तभी पूरा सच सामने आयेगा.

sadguruji के द्वारा
November 5, 2016

राहुल गांधी को पूर्व सैनिक रामकिशन जी के सुसाइड करने के बाद दो दिन में तीन बार हिरासत में लिया गया. तीसरी बार गुरुवार को उनकी पार्टी द्वारा गिरफ्तारी का दावा किया गया, किन्तु दिल्ली पुलिस का कहना है कि राहुल गांधी को हमने हिरासत में नहीं लिया, वो खुद ही पुलिस जिप्सी में बैठ गए थे, कहने पर भी नहीं उतरे.

sadguruji के द्वारा
November 5, 2016

मीडिया मे प्रकाशित खबरों के अनुसार दिल्ली पुलिस का कहना है कि उन्होंने राहुल को घर पर छोड़ने का फैसला किया था. वे उन्हे फिरोजशाह रोड़ लेकर गए और वहां पर उतर जाने के लिए कहा, लेकिन राहुल गांधी ने उतरने के लिए मना कर दिया. तभी उन्होंने कुछ कॉल किए और उसके बाद दर्जनों कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने पुलिस जिप्सी को घेर लिया और टायरों की हवा निकाल दी.

sadguruji के द्वारा
November 5, 2016

हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने ‘शहीद’ शब्‍द की परिभाषा देते हुए कहा, “शहीद वे होते हैं जो सीमा पर जान देते हैं, न कि वे जो आत्‍महत्‍या करते हैं.” हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने ‘शहीद’ शब्‍द की जो परिभाषा जनता के सामने रखी है, वो निश्चय ही विचारणीय है. पूर्व सैनिकों, किसानों, मजदूरों, बच्चों, स्त्रियों और बूढों के हितों के लिये संघर्ष करते हुए जान देने वालों को शहीद कहा जा सकता है, किन्तु आत्महत्या करने वाले को शहीद का दर्जा देना उचित नही है. ये लोंगो को गलत मार्ग दिखाता है, जिसे किसी भी तरह से जायज नही ठहराया जा सकता है !

Shobha के द्वारा
November 5, 2016

श्री आदरणीय सद्गुरु जी अभी तो खुदकशी का कारण भी स्पष्ट नहीं हुआ जाँच चल रही है कुछ नेताओं को मुद्दा मिल गया अपनी डूबती राजनीती को चमकाने का बहुत अच्छा लेख

rameshagarwal के द्वारा
November 5, 2016

जय श्री राम सद्गुरुजी राहुल गाँधी केजरीवाल सस्ती सड़क छाप राजनीती कर रहे मोदीजी को गली देना इनका लक्ष्य रहता .राम किशन की आत्महत्या संदिन्ग्ध है इसको शहीद का दर्ज़ा नहीं दिया जा सकता केजरीवाल ने १ करोड़ क्यों दिया जबकि वह हरयाणा का था.जो लोग शहीद हुए उनके घर नहीं गए मौका देखते और मोदीजी को गली देना शुरू कर देते लेकिन इससे जनता की निगाह में गिर रहे कांग्रेस के लोग भी जानते लेकिन मजबूर है अच्छा है राहुल कांग्रेस को ख़तम करने में लगा है..सुन्दर लेख .

sadguruji के द्वारा
November 5, 2016

आदरणीया डॉक्टर शोभा भारद्वाज जी ! सादर अभिनन्दन ! इस देश में घटिया राजनीति जो न करा दे ! पोस्ट की सराहना के लिए हार्दिक आभार !

sadguruji के द्वारा
November 5, 2016

आदरणीय रमेश अग्रवाल जी ! जय श्रीराम ! अपनी सार्थक और विचारणीय प्रतिक्रिया से पोस्ट को सार्थकता प्रदान करने के लिए हार्दिक आभार ! किसी पूर्व सैनिक की मौत पर ऐसी ओछी राजनीति ! जितनी भी निंदा की जाए, वो कम है ! ब्लॉग पर समय देने के लिए सादर आभार !


topic of the week



latest from jagran