सद्गुरुजी

आदमी चाहे तो तक़दीर बदल सकता है, पूरी दुनिया की वो तस्वीर बदल सकता है, आदमी सोच तो ले उसका इरादा क्या है?

467 Posts

5103 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15204 postid : 1293154

नोटबंदी के कारण नकदी की अभूतपूर्व कमी से जूझता भारत- जंक्शन फोरम

  • SocialTwist Tell-a-Friend

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

नोटबंदी के अच्छे और क्रांतिकारी फैसले के बाद से ही देश के हर बैंक, डाकखाने और एटीएम में लोगों का हुजूम उमड़ रहा है. भीड़ इतनी ज्यादा है कि बैंक और एटीएम के सामने दिनभर लंबी क़तारें लगी रहतीं हैं. एक ओर जहाँ बहुत से एटीम काम ही नहीं कर रहे हैं तो वहीँ दूसरी तरफ बैंकों और एटीएम में कैश तेज़ी से खत्म हो जा रहे हैं. देश में नकदी की ऐसी अभूतपूर्व कमी पहले कभी देखने को नहीं मिली. ज्यादा दिनों तक यही हाल रहा तो देश में अराजकता जैसी स्थिति पैदा हो जायेगी. बैंकों और एटीएम के आगे घंटों खड़े रहने के वावजूद भी लोंगो को पैसा नहीं मिल पा रहा है. जिन्हें पैसा मिल रहा है, वो भी असंतुष्ट हैं, क्योंकि कैश विड्राव करने की सीमा 4000 रूपये बैंक से और दो हजार रुपए एटीम से तय कर दी गई है. इतनी कम रकम में लोग अपने रोज़मर्रा के कामों को नहीं निपटा पा रहे हैं. अपने किसी परिजन के अंतिम संस्कार के लिए, अस्पताल व डाक्टरों की फ़ीस जमा करने के लिए और घर के किसी सदस्य की तय शादी में खरीदारी करने के लिए आम लोग इन दिनों ऐसी विकट आर्थिक तंगी से जूझ रहे हैं कि उनके दर्द को बयान करना मुश्किल है. बस इतना ही कहना काफी हैं कि ‘जाके पाँव ना फटी बिवाई, वो क्या जाने पीर पराई.’
phpThumb_generated_thumbnail
कई घंटे तक लाइन में खड़े रहने वाले बुजुर्गों की लड़खड़ाने, गिरने से लेकर मरने तक की खबरें दिल को गहरी ठेस पहुंचाती हैं. कुछ बुजुर्ग जो बुढापे की मार के कारण ठीक से चलने में भी असमर्थ हैं, इस उम्र में लाइन में खड़े होने पर आंखों में बेबसी के आंसू हैं, फिर भी रुंधे स्वर में कहते हैं, ‘मोदी साहब ने बहुत अच्छा कार्य किया हैं. ये हमारी भावी पीढ़ियों के भविष्य को उज्जवल करेगा.’ बैंकों और एटीएम की कतार में घंटों खड़े रहने वाले देश के अधिकतर युवा भी यही कह रहे हैं कि कालेधन पर अंकुश लगाने के लिए पीएम मोदी ने बड़े नोटों की नोटबंदी का जो क्रांतिकारी निर्णय लिया हैं, वो देशहित में बिलकुल उचित है. कुछ रोज की थोड़ी दिक्कते हैं, पर हम झेल लेंगे.’ मेरे पास भी 9 नवम्बर को रोज़मर्रा के जरुरी कामों को निपटाने के लिए और रसोई का कुछ सामान मंगाने के लिए रूपये नहीं थे. टीवी पर बैंक और एटीम में भीड़ देख जाने की हिम्मत नहीं हुई. मैंने बहुत झिझकते हुए अपनी पांच साल की बेटी से उसका गुल्लक माँगा. वो गुल्लक लाकर दे दी. मैं सोचने लगा कि तोड़ें न तोड़ें. मुझे दुविधा में फंसा देख पत्नी ने मेरे हाथ से गुल्लक लेकर तोडा तो उसमें पांच हजार के करीब पांच दस के सिक्के और दस, बीस, पचास और सौ के रूपये निकले.

बेटी की तरफ देखते हुए मैं परेशान था कि गुल्लक टूटने के बाद अब वो रोयेगी, लेकिन वो रोई नहीं. मेरे पास आकर बोली, ‘पापा! आप सब रूपये ले लो. बस मुझे एक नया गुल्लक लाकर दे देना.’ भावावेश में बेटी के सिर पर मैं हाथ रखा और अपनी आँखों के आंसू पोछने के लिए कमरे के बाहर निकल आया. बेटी के जमा किये हुए पाँच हजार रूपये का अब मैं कर्जदार हो गया था. ‘पापा! क्या हो गया? आप बाहर क्यों आ गए?’ बिटिया कुछ ही पल में मेरे पास आकर पूछी. उसे अपनी गोद में उठाते हुए मैं बोला, ‘कुछ नहीं बिटिया.. बस यूँ ही.. आँख में कुछ पड़ गया था.’ ‘तो मैं आँख में डालने के लिए गुलाबजल लाऊं?’ उसने चिंतित होते हुए पूछा. मैंने हंसकर कहा, ‘नहीं.. इसकी जरुरत नहीं.. अब ठीक हैं..’ फिर बात बदलते हुए मैंने कहा, ‘तुम्हारे गुल्लक से आज देखों कितना सारा कालाधन निकला है? मोदी जी सब ले लेंगे.’ बिटिया मुझे समझाते हुए बोली, ‘नहीं.. थोड़ा पैसा कालाधन नहीं होता है.. प्रधानमंत्री जी मेरा पैसा नहीं लेंगे.. वो पूरे रूम भर का ढेर सा रुपया हो न तब लेते हैं..’ उसे नीचे उतारते हुए पूछा, ‘मोदी जी जानती हो कौन हैं ?’ वो बोली, ‘देश के प्रधानमंत्री हैं.. कितनी बार बता चुकी हूँ.. अब मत पूछना..’ मोदी जी के कार्यों के बारे में थोड़ा बहुत छोटे बच्चे भी जानते हैं.
400x400_MIMAGEfce429e19bc702829a6371f079d4a807
ये बड़ों को हैरान करने वाली, किन्तु बहुत अच्छी बात है. देश के भविष्य हैं ये बच्चे. देश के बच्चों और युवा पीढ़ी के उज्जवल भविष्य के लिए मोदी जी ने जो नोटबंदी की है, उस पुनीत कार्य में देश की अधिकतर जनता उनके साथ है. जनता केवल थोड़ी और राहत व छूट चाह रही है. रूपये बदलवाने की सीमा कुछ और बढे. रूपये जमा करने और निकलवाने की लाइन अलग अलग हो. महिलाओं, बुजुर्ग और विकलांग लोंगो के लिए बैंकों में अलग से एक अच्छी व्यवस्था हो. देशभर के एटीम में जल्द से जल्द नए नोटों को रीड करने वाला सेंसर और नोट रखने की ट्रे बदली जाए, ताकि 500 और 2000 के नॉट जनता को आसानी से उपलब्ध हो सके. जब तक बड़े नोट चलन में नहीं आएंगे तब तक नकदी की किल्लत दूर नहीं होगी. किसी जरुरी चीज की कमी होने की अफवाह उड़ाकर, डॉलर और सोना खरीदकर कालाधन खपाने वालों पर केंद्र सरकार को निगाह रखनी होगी. अभी कुछ रोज पहले कालाधन खपाने वालों ने खूब नमक खरीदा और नमक की कमी होने की अफवाह कई जगहों पर फैलाई, जिससे नमक 300-400 रूपये किलो तक बिका और जनता के बीच अफरातफरी भी मची. नोटबंदी और जनता की परेशानी को भुनाने की जुगत में कई राजनीतिक दल भी लगे हैं. कोई आश्चर्य की बात नहीं जो बैंक और एटीम पर भीड़ बढ़ा ये लोग अराजकता फैलाने की कोशिश करें.

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
आलेख और प्रस्तुति= सद्गुरु श्री राजेंद्र ऋषि जी, प्रकृति पुरुष सिद्धपीठ आश्रम, ग्राम- घमहापुर, पोस्ट- कन्द्वा, जिला- वाराणसी. पिन- 221106
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (13 votes, average: 4.69 out of 5)
Loading ... Loading ...

18 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

rameshagarwal के द्वारा
November 13, 2016

जय श्री राम आदरणीय सद्गुरुजी ये सही है की कुछ दिक्कते आयेगी और कुछ लोग परेशान भी है लेकिन जब कोइ क्रांतिकारी कदम उठाया जाता तो कुछ दिनों ऐसी व्यवस्था में गड़बड़ी हो जाती लेकिन टीक हो जाएगा जनता सहयोग कर रही और जान रही.ममता.मुलायम,राहुल मायावाती का हल्ला मचाना समझ में आता है जरा संसद में बहस देखिएगा मज़ा आ जाएगा.सुन्दर चित्रण खास कर आपकी छोटी बेटी के साहस सुनकर बहुत अच्छा लगा.

Shobha के द्वारा
November 13, 2016

श्री आदरणीय सद्गुरु जी मोदी का काले धन पर प्रहार का निर्णय मिडिल क्लास सदैव याद रखेगा अभी बेनामी प्रोपर्टी पर भ प्रहार होना चाहिए |बिजनेस कम्यूनिटी और चुनाव में लगे नेता बहुत परेशान हैं बहुत अच्छा लेख

sadguruji के द्वारा
November 14, 2016

आदरणीय रमेश अग्रवाल जी ! सादर अभिनन्दन ! सार्थक और विचारणीय प्रतिक्रिया देने के लिए हार्दिक आभार ! मेरी बेटी ने मुझे न केवल अपने गुल्लक से अर्थ की मदद की, बल्कि उसने मुझे धैर्य रखने की भी शिक्षा दी ! नोटबंदी के मुद्दे पर संसद में तीखी बहस जरूर होगी, इसमें कोई संदेह नहीं ! विपक्षी नेता जनता की कोई मदद तो नहीं कर सकते, किन्तु उनकी परेशानियों को भुनाने की कोशिश जरूर कर सकते हैं ! जनता को इससे सावधान रहना चाहिए ! इस समय उनके बहकावे में न आ पीएम मोदी के हाथ मजबूत करने की जरुरत है ! सादर आभार !

sadguruji के द्वारा
November 14, 2016

आदरणीया डॉक्टर शोभा भारद्वाज जी ! ब्लॉग पर स्वागत है ! आपसे सहमत हूँ कि नोटबंदी से बिजनेस कम्यूनिटी और चुनाव में लगे नेता ज्यादा परेशान हैं, क्योंकि उनका दो नंबर का रुपया जो डूब रहा है ! बेनामी प्रोपर्टी पर भी प्रहार जरुरी है, जो पीएम का अगला स्टेप है ! पोस्ट की सराहना के लिए धन्यवाद ! ब्लॉग पर समय देने के लिए सादर आभार !

sadguruji के द्वारा
November 14, 2016

गोवा में ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट के शिलान्यास के बाद नोटबंदी के फैसले पर अपनी बात रखते हुए प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी की आंखों से आंसू बहने लगे और उन्होंने जनता से भावुक अपील करते हुए कहा, “किसी को तकलीफें होती है तो मुझे भी होती है. मैंने बुराइयों को निकट से देखा है. देश के लिए मैंने अपना घर परिवार छोड़ा है, अपना सब कुछ देश के नाम कर दिया है. मैं जानता हूं मैंने कैसी कैसी ताकतों से लड़ाई मोल ले ली है. जानता हूं कैसे लोग मेरे खिलाफ हो जाएंगे. मुझे ज़िंदा नहीं छोड़ेंगे, मुझे बर्बाद कर देंगे. लेकिन मैं हार नहीं मानूंगा. आप सिर्फ 50 दिन मेरी मदद करें. मेरा साथ दें. मैंने देश से सिर्फ पचास दिन मांगे है, 30 दिसंबर तक का वक्त दीजिए. उसके बाद अगर मेरी कोई गलती निकल जाए, गलत इरादे निकल जाए, कोई कमी रह जाए तो जिस चौराहे पर खड़ा करेंगे खड़ा होकर, देश जो सजा देगा उसे भुगतने के लिए तैयार हूं.”

sadguruji के द्वारा
November 14, 2016

पीएम मोदी के भाषण से बौखलाए दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने उन पर पलटवार करते हुए प्रेस कांफ्रेंस आयोजित कर कहा, “प्रधानमंत्री जापान से आए और उन्‍होंने नोटबंदी के कारण लोगों को हो रही दिक्‍कत के मद्देनजर 50 दिन तक सहयोग करने की मांग की तो क्‍या आम आदमी अगले 50 दिनों तक और कष्‍ट उठाता रहेगा? क्‍या लोगों को अगले 50 और दिनों तक लाइन में खड़े होकर गुजारने होंगे? जनता 50 दिन तो क्‍या 50 घंटे तक इंतजार करने के मूड में नहीं है. पूरे देश में इमर्जेंसी जैसे हालात हैं. लोग भूखों मर रहे हैं.” उन्‍होंने कहा, “मोदी जी अहंकार छोड़िए और नोटबंदी के फैसले को वापस ले लीजिये. नोटबंदी का फैसला वापस लेने के अलावा और कोई दूसरा उपाय नहीं है. सरकार चाहे तो इंतजाम पुख्ता कर इस नियम को फिर से लागू कर सकती है.” आम जनता अभी भी प्रधानमन्त्री जी का साथ दे रही है, अत: केजरीवाल जी की बातें लोंगो को भड़काने के लिये ही कही जा रही हैं. विपक्षी नेता नोट बंदी के मुद्दे पर जनता को भड़कायेंगे, यह बात सरकार को पता होनी चाहिये थी, इसलिये देश मे नक़दी की कमी न हो, इसकी समुचित व्यवस्था करनी चाहिये थी. सरकार को बैंक और एटीम से रुपये बदलवाने, जमा करने और एटीम से नकद लेने की व्यवस्था तुरन्त सही करनी चाहिये और शादी-विवाह वाले मामलों मे कुछ छूट जरूर देनी चाहिये. देश की अधिकतर जनता प्रधानमन्त्री मोदी के साथ है. जनता केवल थोड़ी और राहत व छूट चाह रही है, जो उसे मिलना चाहिये.

sadguruji के द्वारा
November 14, 2016

राहत वाली खबर यह भी है कि देश के सभी टोल पर 24 नवंबर तक कोई टैक्स भी नहीं लिया जायेगा ! बिजली और पानी के बिल सहित केंद्र सरकार और राज्य सरकार द्वारा लिए जाने वाले सभी बिलों का भुगतान 24 नवंबर तक पांच सौ और एक हजार के पुराने नोटों से किया जा सकता है !

sadguruji के द्वारा
November 14, 2016

वित्त मंत्रालय ने लोंगो को कुछ और बड़ी राहत देते हुए कहा है, ‘बैंकों को एटीएम से रोजाना निकासी की सीमा बढ़ाकर ढाई हजार रुपये करने का निर्देश दिया गया है ! जबकि बैंक काउंटर से प्रति हफ्ते अधिकतम निकासी की सीमा बीस हजार रुपये से बढ़ाकर 24,000 रुपये कर दी गई है ! बैंक से प्रतिदिन दस हजार रुपये निकासी की सीमा को हटा दिया गया है !

sadguruji के द्वारा
November 14, 2016

रविवार को पीएम मोदी ने नोटबंदी के मामले पर जो समीक्षा बैठक बुलाई थी उसमे यह भी निर्णय लिया गया कि देशभर के सभी बैंकों से कहा जायेगा कि वो वरिष्ठ नागरिकों और विकलांगों के लिए अलग कतारों की व्यवस्था करें ! पीएम मोदी ने आम जनता को जो राहत दी है, वो सराहनीय है, किन्तु जिनके यहा शादी पड़ी है उन्हे ये छूट मिलनी चाहिये थी कि शादी का कार्ड दिखा तीन लाख तक कैश बैंक से प्राप्त कर सकें ! बैंक मे बिना किसी पूछताछ के नोट जमा करने की सीमा ढाई लाख से बढ़ाकर तीन लाख कर देना चाहिये !

sadguruji के द्वारा
November 16, 2016

मीडिया में प्रकाशित ख़बरों के अनुसार नोटबंदी के खिलाफ जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने इस फैसले पर रोक लगाने से इनकार ककर दिया है. हालांकि कोर्ट ने कहा कि लोगों को परेशानी न हो इसका ध्यान सरकार रखे. माननीय सुप्रीम कोर्ट का देशहित में एक बड़ा निर्णय है. केंद्र सरकार को कोर्ट के सुझाव पर ध्यान देते हुए नकदी की कमी से जूझती जनता की शीघ्र से शीघ्र अधिकतम मदद करनी चाहिए ! चलते फिरते मोबाइल बैंकिंग एटीम को हर शहर में चहुंओर और ज्यादा बढ़ाया जाना चाहिए !

एल.एस. बिष्ट् के द्वारा
November 17, 2016

साप्ताहिक सम्मान के लिए मेरी बधाई स्वीकार करें । लेख दिल को छू गया । वाकई एक बेटी का गुल्लक तोडने की विवशता समझ मे आती है लेकिन साथ मे वह भरोसा भी कि गुल्लक से बडा है देश । बेटी की भावनाएं इस देश के नौनिहालों की भावनाएं हैं । उम्मीद है देश एक नई रोशनी की ओर अग्रसर होगा । पुन: भावपूर्ण आलेख के लिए आपको बहुत बहुत बधाई ।

RAJEEV GUPTA के द्वारा
November 17, 2016

आदरणीय राजेन्द्र ऋषि जी, जागरण जंक्शन में “बेस्ट ब्लॉगर ऑफ़ थे वीक” का सम्मान पाने के लिए आपको बहुत बहुत बधाई एवं अभिनन्दन. मोदी सरकार के इस ऐतिहासिक क्रन्तिकारी फैसले से उपजे हालात पर आपने एक सार्थक एवं विचारणीय लेख प्रस्तुत किया किया है, जिसके लिए आपको एक बार फिर से बधाई !

sadguruji के द्वारा
November 18, 2016

‘नोटबंदी के कारण नकदी की अभूतपूर्व कमी से जूझता भारत’ ब्लॉग के लिए ‘बेस्ट ब्लॉगर आफ दी वीक’ सम्मान से सम्मानित करने के लिए सम्मानित अखबार ‘दैनिक जागरण’ के जागरण जंक्शन मंच के आदरणीय संपादक महोदय और उनकी सम्पादकीय टीम को सादर धन्यवाद ! समय समय पर अनमोल सुझाव, पूर्ण समर्थन और मानसिक ही नहीं, बल्कि आत्मिक रूप से भी जुड़कर सहयोग देने के लिए सभी ब्लॉगर मित्रों और कृपालु पाठकों का ह्रदय से आभारी हूँ ! ये सम्मान आप सभी को समर्पित है ! सादर आभार !

sadguruji के द्वारा
November 18, 2016

आदरणीय विष्ट जी ! सादर अभिनन्दन ! बधाई देने के लिए धन्यवाद ! बेटी की गुल्लक टूटते समय मैं परेशान था कि अब वो रोयेगी, लेकिन वो रोइ नहीं, बस नया गुल्लक ला के देने का आग्रह की ! उसकी यही बात दिल को छू गई और मुझे भावुक कर दी ! टीवी पर कार्टून चैनल सीएन देखना उसे बहुत पसंद है, किन्तु कुछ देर वो मेरे साथ बैठकर न्यूज भी देख सुन लेती है ! उसी का असर है कि नोटबन्दी से होने वाली दिक्कतों का एहसास उसे है ! बच्चे यदि समझ रहे है कि गुल्लक से बड़ा देश है तो बड़ों को भी देशहित में ये समझना चाहिए कि छुपाकर रखे गए कालेधन का मोह छोड़ें और नोटबंदी के कारण हो रही दिक्कतों का सामना देशप्रेम की भावना से करें ! प्रतिक्रिया और बधाई देने के लिए हार्दिक आभार !

sadguruji के द्वारा
November 18, 2016

आदरणीय राजीव गुप्ता जी ! ब्लॉग पर स्वागत है ! बधाई देने के लिए हार्दिक आभार ! मोदी सरकार द्वारा लिया गया नोटबंदी का फैसला ऐतिहासिक और क्रन्तिकारी है, इसमें कोई संदेह नहीं ! विपक्षी नेताओं की राजनीतिक और आर्थिक दोनों ही जमीन खिसक रही है, इसलिए वो विचित्र कुतर्क दे रहे हैं और संसद में भी कोई सार्थक बहस नहीं, बल्कि हंगामा खड़ा करना ही उनका एकमात्र मकसद है ! ब्लॉग पर समय देने के लिए सादर आभार !

sadguruji के द्वारा
November 18, 2016

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाब नबी आजाद ने राज्यसभा में नोटबंदी को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि नोटबंदी के फैसले की वजह से 40 लोग मारे गए हैं. सरकार की गलत नीति से जितने लोग मर गए हैं, उससे आधे तो पाकिस्तानी आतंकियों ने उरी हमले में नहीं मारे थे. गुलाब नबी आजाद जैसे पुराने कांग्रेसी नेता कितना विचित्र और बेतुका बयान देते हैं. उरी हमले से लाइन में खड़े लोंगो की तुलना करना शहीद सैनिकों का अपमान है. क्या लाइन में खड़े सभी लोंगों को दिक्कत हो रही है, नहीं, बल्कि लाइन में खड़े कुछ अति वृद्ध लोग जो शरीर छोड़े हैं, उसकी मूल वजह उनके विभिन्न तरह रोग थे. ये बात जरूर है कि उनके लिए रूपये देने की एक अलग से व्यवस्था करनी चाहिए थी.

jlsingh के द्वारा
November 22, 2016

साप्ताहिक सम्मान के लिए बहुत बहुत बधाई आदरणीय सद्गुरु जी, आपकी बिटिया की समझदारी से अगर देश आगे बढ़ता है या कुछ भी अच्छा होता है तो मोदी जी के लिए यह स्तुत्य काम होगा. एक बार पुनः: बधाई!

sadguruji के द्वारा
November 28, 2016

आदरणीय सिंह साहब ! बधाई देने के लिए धन्यवाद ! आपकी बात से सहमत हूँ कि नोटबंदी से अगर देश आगे बढ़ता है या कुछ भी अच्छा होता है तो मोदी जी के लिए यह स्तुत्य काम होगा ! सादर आभार !


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran