सद्गुरुजी

आदमी चाहे तो तक़दीर बदल सकता है, पूरी दुनिया की वो तस्वीर बदल सकता है, आदमी सोच तो ले उसका इरादा क्या है?

493 Posts

5422 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15204 postid : 1329899

राजनीति पर हास्य व्यंग्य कविता: यही है यारों सन्देश हमारा... -जागरण जंक्शन फोरम

Posted On: 13 May, 2017 Junction Forum में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

वही है अपना प्यारा साथी, जिसे हो भ्रष्टाचार प्यारा !
भ्रष्ट नेताओं और दलों से ही, होगा हमारा भाईचारा !!
यही है यारों सन्देश हमारा…

रहेगा पूरे पांच साल तक कायम, भ्रष्ट आचार हमारा !
आरोप लगे तो ‘सब झूठ है’, होगा यही कहना हमारा !!
यही है यारों सन्देश हमारा…
जब भी चुनाव हारे तो कहेंगे, ‘ईवीएम का दोष है सारा’ !
फर्जी मशीन चला कहेंगे, ‘भाजपा लूटी है मत हमारा’ !!
यही है यारों सन्देश हमारा…

सरकारी भूमि हो, फ़्लैट हो, या हो ठेका सरकारी सारा !
देंगे हम जरूर, पर उसको ही, जो हो रिस्तेदार हमारा !!
यही है यारों सन्देश हमारा…
कौन रोकेगा हमें, करेंगे हर रोज हम फर्जीवाड़ा न्यारा !
शोर मचा तो मीडिया से कहेंगे, ‘है दामन पाक हमारा’ !!
यही है यारों सन्देश हमारा…

साथी दलों को एकजुट कर बनाएंगे ‘ठगबंधन’ न्यारा !
‘मोदी को हराना है’, ये होगा एकसूत्री कार्यक्रम हमारा !!
यही है यारों सन्देश हमारा…
जनता वोट न दी तो दोष मढ़ेंगे मत्थे ईवीएम के सारा !
बीजेपी कहीं भी जीते, कहेंगे, ‘पड़ा है फर्जी वोट सारा’ !!
यही है यारों सन्देश हमारा..
.
हम लूटपाट और ऐश करेंगे, ये कहकर दोष मढ़ेंगे सारा !
‘झोपड़ियों में हो उजियारा, मोदीजी यह काम तुम्हारा’ !!
यही है यारों सन्देश हमारा..
मेहनत के मुताबिक़ ले गए सब, अपना हिस्सा प्यारा !
वो किस्से पुराने, रचो अब भ्रष्टाचारी इतिहास न्यारा !!
यही है यारों सन्देश हमारा..

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
आलेख और प्रस्तुति= सद्गुरु श्री राजेंद्र ऋषि जी, प्रकृति पुरुष सिद्धपीठ आश्रम, ग्राम- घमहापुर, पोस्ट- कन्द्वा, जिला- वाराणसी. पिन- 221106.
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 4.83 out of 5)
Loading ... Loading ...

10 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

sadguruji के द्वारा
May 13, 2017

Rajeev Gupta आदरणीय राजेन्द्र ऋषि जी, आपने कविता लिखी है या नेताजी का कच्चा चिट्ठा खोलकर पाठकों के सामने रखा है- इनके भूत,वर्तमान और भविष्य को समेटकर आपने बहुत शानदार रचना पेश की है-जिसके लिये आपका हार्दिक अभिनन्दन और बधाई

sadguruji के द्वारा
May 13, 2017

आदरणीय राजीव गुप्ता जी ! हार्दिक अभिनन्दन ! बहुत पहले ये लोग अक्सर गाते थे, ‘इंसान का इंसान से हो भाईचारा, यही पैगाम हमारा..!’ कवि प्रदीप जी ने समाज को इस गीत के माध्यम से भाईचारा और समानता का बहुत सुन्दर संदेश दिया है ! आम आदमी पार्टी भी शुरु मे इसी महान संदेश का गुणगान गाती थी और इस पर चलने का संकल्प लेती थी, लेकिन सत्ता के मद ने उसे पथभ्रष्ट कर दिया ! इस पार्टी का आज जो कुछ भी पतन हम होते देख रहे हैं, उन्ही सब चीजों का वर्णन इस कविता मे ‘ना काहू से दोस्ती और ना काहू से वैर’ वाले तटस्थ भाव से है ! कविता को शानदार महसूस कर जो सम्मान और सार्थकता आप ने उसे प्रदान की है, उसके लिये हार्दिक आभार !

sadguruji के द्वारा
May 13, 2017

Leela Tewani प्रिय ब्लॉगर सद्गुरु भाई जी, एकदम सटीक व सार्थक कविता से पोल खोलने का आपका प्रयास सफल रहा. एकदम सच्चाई और वह भी रसीली. क्या बात है! आपने बिलकुल दुरुस्त फरमाया है. “साथी दलों को एकजुट कर बनाएंगे ‘ठगबंधन’ न्यारा ! ‘मोदी को हराना है’, ये होगा एकसूत्री कार्यक्रम हमारा !!” यही तो उनका प्रथम और अंतिम लक्ष्य है. अत्यंत सटीक व सार्थक रचना के लिए आपका आभार.

sadguruji के द्वारा
May 13, 2017

आदरणीया लीला तिवानी जी ! हार्दिक अभिनन्दन ! ब्लॉग लेखन के शेत्र मे आप सबसे बहुत कुछ सीखने को मिला है ! अब कुछ न कुछ नये ढंग से ब्लॉग प्रस्तुत करना जरूरी भी है, क्योंकि बड़ी तादात मे पाठक सोशल मीडिया की तरफ भाग रहे हैं ! संक्षिप्त और रोचक ब्लॉग अब ज्यादा पढ़े जाते हैं ! पोस्ट की सराहना के लिये धन्यवाद ! आने वाले समय मे निश्चित रूप से मोदी विरोधी अधिकतर दल एकजुट होकर ‘महागठबंधन’ बनाएँगे, लेकिन मोदी को चुनौती देने मे वे सफल नही होंगे, क्योंकि देश की 80 फीसदी से भी ज्यादा जनता पीएम मोदी के साथ खड़ी है ! कविता सटीक और सार्थक आपको लगी तथा आपने कीमती समय ब्लॉग पर दिया, इसके लिये बहुत बहुत धन्यवाद !

sadguruji के द्वारा
May 13, 2017

Surya Bhan Bhan आदरणीय गुरू जी ,आपने अपनी कलम से आज के राजनीतिक परिवेश के जो चित्र खीचे हैं उसकी परिधि में कमोंवेश सभी राजनीतिक पार्टिया आ गयी हैं । बस अंतर इतना है कि कुछ इस चित्र की परिधि पर है तो कुछ केंद्र में । पूरी रचना पढने के बाद इस दुविधा में हूं कि मै राजनीतिज्ञों की इस सोच के कारण देश की हो रही दुर्दशा पर रोऊ या हंसू। समसामयिक एवं यथार्थ को व् याख्यायित करती सुन्दर रचनाके लिए आभार ।

sadguruji के द्वारा
May 13, 2017

आदरणीय सूर्यभान जी ! ब्लॉग पर स्वागत है ! जी.. आप सही कह रहे हैं कि आज के दूषित राजनीतिक परिवेश मे कई दलों की कमोवेश स्थिति यही है ! अब तो जिसे भी पार्टी से निकाल दो, वही पोल खोल अभियान चलाना शुरु कर दे रहा है ! जनता हंसे या रोये, उसे समझ मे ही नही आ रहा है ! दरअसल कई दलों दलों की चुनाव मे निरन्तर हो रही हार ही उनके पतन और फूट की मुख्य वजह बन गई है ! सार्थक और विचारणीय प्रतिक्रिया देने के लिये हार्दिक आभार !

harirawat के द्वारा
May 13, 2017

सद्गुरुजी नमस्कार ! वह !! क्या खूब ब्यंग मारा है राजनीति के कलाकारों पर, नामी ग्रामी ऊंची नाक वाले भ्रष्टाचाऋ चारों पर ! ऐसे ही रेड मारते रहिए कभी तो भ्रष्टाचारी, चूहा पिंजरें फंसेगा ही !

sadguruji के द्वारा
May 13, 2017

आदरणीय हरेंद्र रावत जी ! सादर अभिनन्दन ! पोस्ट की सराहना के लिए धन्यवाद ! देश में आज कुछ ऐसा ही राजनीतिक माहौल है ! भाजपा विरोधी दलों में फूट और अफरातफरी मची हुई है ! जिस पार्टी से जो नेता निकाले जा रहे हैं, वही उस पार्टी की पोल खोलने में लग गए हैं ! जनता हंसे रोये या फिर इन्हे वोट देने के लिए अपना माथा पिटे, यही उसकी समझ में नहीं आ रहा है ! ब्लॉग पर समय देने के लिए धन्यवाद !

rameshagarwal के द्वारा
May 16, 2017

जय श्री राम आदरणीय सद्गुरुजी बहुत सुन्दर सच से पूर्ण बेईमान नेताओ पर सही कहा आज इन नेताओ का एक ही अजेंडा मोदीजी हटाओ.ऐसे नेताओ को देश से ज्यादा कुर्सी प्यारी शर्म आती.ये भी कह्देंगे की जनता की उंगली में दोष दबाते हमको वोट जाता बीजेपी को .मनमोहक कविता के लिए आभार.

sadguruji के द्वारा
May 20, 2017

आदरणीय रमेश अग्रवाल जी ! जय श्रीराम ! ब्लॉग पर स्वागत है ! सब विपक्षी नेता मिलकर भी मोदी को प्रधानमंत्री की कुर्सी से नहीं हटा पाएंगे, बस वो जनहित और राष्ट्रहित में अपना कार्य सुचारु रूप से जारी रखें ! कविता आपको मनमोहक और सच से परिपूर्ण महसूस लगी, यह जानकार ख़ुशी हुई. पोस्ट को सार्थकता प्रदान करने के लिए धन्यवाद !


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran