sadguruji

सद्गुरुजी

आदमी चाहे तो तक़दीर बदल सकता है, पूरी दुनिया की वो तस्वीर बदल सकता है, आदमी सोच तो ले उसका इरादा क्या है?

532 Posts

5763 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 15204 postid : 1338086

बेहद चिंताजनक मुद्दा: हमारे लोकतंत्र पर अब भीड़तंत्र हावी होती जा रही है-जंक्शन फोरम

Posted On: 4 Jul, 2017 Social Issues में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

सोमवार 3 जुलाई की रात को एक न्यूज चैनल पर सोशल मीडिया में वायरल हो रहा एक वीडियो दिखाया जा रहा था, जिसमे नजर आ रहा था कि रहा था झारखंड प्रान्त के दुमका में 8 साल की एक बच्ची से दुष्कर्म करने के बाद उसकी ह्त्या करने के आरोपी एक 30 वर्षीय युवक को आदिवासी महिलाअों ने लाठी डंडों से पीट-पीट कर कैसे बेहद क्रूर और दर्दनाक ढंग से मार डाला. मीडिया में छपी एक खबर के अनुसार दुमका जिले के रामगढ़ थाना क्षेत्र के एक गांव में आठ साल की एक बच्ची अपने मामा के घर शादी समारोह में आयी थी. मंगलवार 27 जून को देर रात शादी समारोह से बच्ची गायब हो गयी थी. शादी समारोह में मौजूद कुछ बच्चों ने बच्ची को एक अज्ञात युवक द्वारा उठाकर ले जाते हुए देखा था. जब बच्ची काफी ढूंढने पर भी नहीं मिली तो ग्रामीणों ने बुधवार को रात 9 बजे सामूहिक बैठक बुलायी, जिसमे आरोपी शामिल नहीं हुआ था. इसी बात को लेकर गांववालों को आरोपी युवक पर शक हुआ. ये शक और पुख्ता हो गया जब आरोपी की पत्नी ने ग्रामीणों को बताया कि जब मंगलवार को बच्ची गायब हुई थी, उस रात उसका पति यानि आरोपी युवक घर पर नहीं था.

जब ग्रामीणों ने उसे पेड़ में बांधकर पीटते हुए सख्ती से पूछताछ की तो उसने बच्ची के साथ दुष्कर्म कर उसकी ह्त्या करने की बात कुबूली और बताया कि बच्ची का शव नदी किनारे पड़ा है. जब उसकी घिनौनी और बेहद क्रूर करतूत के बारे में गाँव की महिलाओं को मालूम हुआ तो गुस्से से आग-बबूला होकर आदिवासी महिलाअों ने लाठी-डंडों से पीट-पीट कर उसकी हत्या कर दी. वीडियो देखने में बहुत खराब लग रहा था. रस्सी से बंधा एक युवक जमीन पर गिरा पड़ा था. एक महिला रस्सी को पकड़ के खिंच रही थी और अन्य कई महिलाएं युवक को लाठी-डंडों से लगातार पीटे जा रही थीं. मेरे एक रिश्तेदार भी मेरे साथ बैठकर टीवी देख रहे थे. वो कहने लगे, ‘ये महिलाएं बिल्कुल ठीक काम कर रही हैं. बलात्कारियों को ऐसी ही सजा देनी चाहिए.’ मैंने उनकी बात का कोई जबाब नहीं देते हुए टीवी बंद कर दिया. रात को देर तक मैं सोचता रहा कि लोग अब क्यों कानून हाथ में लेकर खुद ही आरोपियों को सजा देने लगे हैं? क्या लोगों का विश्वास अब सरकारी न्याय पर से उठ गया है? क्या हमारा लोकतंत्र इतना खोखला और कमजोर हो चुका है कि उसपर अब भीड़तंत्र हावी होती जा रही है? यह बेहद गंभीर और चिंताजनक मुद्दा है कि हमारे लोकतंत्र पर अब भीड़तंत्र हावी होती जा रही है.

ये स्थिति किसी एक राज्य में ही नहीं, बल्कि पूरे देशभर में है. बिहार, झारखंड, राजस्थान और नागालैंड में पिछले एक दशक में भीड़ ने अनेक आरोपियों को सरेआम नृशंस तरीके से पीट-पीटकर मौत के घाट उतार दिया. कई बार तो पुलिस मौके पर होते हुए भी मूकदर्शक बनकर देखती रही. भीड़ को कानून हाथ में लेने से रोकने की उसकी हिम्मत तक नहीं हुई. पिछले कुछ सालों में गोमांस खाने के आरोप पर भीड़ द्वारा और गोवध हेतु गाय ले जाने के आरोप पर गोरक्षकों के द्वारा सरेआम कई आरोपियों की हत्याएं हुई हैं. भीड़तंत्र द्वारा आरोपियों को सजा देना न केवल निंदनीय है, बल्कि हमारे लोकतंत्र और शासन व्यवस्था के लिए भी बहुत घातक है. सबसे बड़ी चिंता मुझे इस बात की है कि आरोपियों को लोग न सिर्फ तालिबानी और नक्सली ढंग से अपने मनमुताबिक दर्दनाक सजा दे रहे हैं, बल्कि उसका वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर भी अपलोड कर रहे हैं. इस तरह के वीडियो बहुत जल्दी वायरल हो रहे हैं और बड़ी तादात में लोंगो द्वारा देंखे जा रहे हैं. उन्हें काफी हद तक जनसमर्थन भी मिल रहा है. सोशल मीडिया पर वायरल होने के कुछ रोज बाद न्यूज चैनलों पर भी ऐसे वीडियो बार-बार दिखाए जा रहे हैं.

इस तरह के वीडियो न सिर्फ हमारे लोकतंत्र, बल्कि कानून व्यवस्था को भी खुली चुनौती दे रहे हैं. राज्य सरकारों को अब जागना चाहिए और भीड़तंत्र द्वारा आरोपियों को सजा देने की दिनोदिन बढ़ती तालिबानी और नक्सली प्रवृत्ति पर रोक लगानी चाहिए. भीड़तंत्र द्वारा आरोपियों को दी जा रही सजा का वीडियो बनाकर और उसे सोशल मीडिया पर अपलोड करने पर भी पूर्णतः रोक लगनी चाहिए. हमारे लोकतंत्र के लिए यह बहुत चिंता की बात है कि आम जनता का आक्रोश अब हमारे सिस्टम यानि शासन व्यवस्था के प्रति दिनोदिन बढ़ता ही जा रहा है. जो आरोपी बाहुबली हैं, जनता उनका तो कुछ बिगाड़ नहीं पाती हैं, किन्तु अपने बीच रहने वाले गरीब आरोपियों को मनमानी सजाएं दे रही है. उसका कानून व्यवस्था पर से विश्वास दिनोंदिन कम हो रहा है. वो सोचती है कि पता नहीं आरोपी को कब सजा मिलेगी. सजा मिलेगी या नही मिलेगी, यह भी कुछ पता नहीं. आरोपी कहीं पैसा देकर न छूट जाए. दरअसल यही सब हमारे सिस्टम की खामियां हैं, जिन्हे दूर करने की जरुरत है. पीड़ित को जल्दी और संतोषजनक न्याय मिलना चाहिए और अपराधियों को देश के कानून के अनुसार शीघ्र से शीघ्र और सख्त से सख्त सजा मिलनी चाहिए.



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

10 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

harirawat के द्वारा
July 4, 2017

सद्गुरुजी नमस्कार ! आपकी चिंता जायज है लेकिन क्या क़ानून के रक्षक अपना काम ईमानदारी से निभा रहे हैं, तहकीकात करने वाले पुलिस इन्स्पेक्टर केस को आरोपी की सुरक्षा की और मोड़ लेते हैं, जीता जगता केस निर्भय का सामने है ! आज ५ पांच साल होगये, उन्हें भी भीड़ उसी दिन मार देती तो झंझट ही मिट जाता ! जनता को यह डरास्टिक कदम मजबूरी में उठाना पड़ता है ! एक नन्नी सी जान को उठा ले जाना उसके साथ कुकर्म करना और उसकी निर्ममता से ह्त्या कर देना, बची के माँ बाप पर क्या असर डालेगा, इस पर भी विचार करें, आपको जबाब मिल जाएगा !

sadguruji के द्वारा
July 4, 2017

आदरणीय हरेन्द्र रावत जी ! सादर अभिनन्दन ! आप सैनिक अधिकारी रहे हैं और उसी के अनुरूप आपने टिप्पणी की है, लेकिन आपसे इस बात पर सहमत नही कि निर्भया केस मे भीड़ को अपराधियों को ख्त्म् कर देना चाहिये था ! निर्भया काण्ड के बाद भी हजारों निर्भया काण्ड हुए हैं ! महिलाओं द्वारा बलात्कारी की पीट-पीटकर हत्या करना भी जायज नही है ! सजा देना कोर्ट का और उसे अमल मे लाना प्रशासन का कार्य है ! प्रतिक्रिया देने के लिये सादर धन्यवाद !

sadguruji के द्वारा
July 7, 2017

आदरणीय डॉ0 कुमारेन्द्र सिंह सेंगर जी ! सादर अभिनन्दन ! ब्लॉग बुलेटिन की नवीनतम बुलेटिन “एकात्मता एवं अखण्डता के प्रतीक डॉ० मुखर्जी” में इस ब्लॉग को शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद ! पोस्ट को सम्मान देने के लिए सादर आभार !

एल.एस. बिष्ट् के द्वारा
July 7, 2017

आदरणीय सदगुरू जी सादर अभिवादन । बिल्कुल सही लिखा है आपने अब भीड तंत्र हावी हो रहा है जो खुद सजा देने लगा है । यह कतई स्वीकार्य नही । आपने सही कहा है ………………..जो आरोपी बाहुबली हैं, जनता उनका तो कुछ बिगाड़ नहीं पाती हैं, किन्तु अपने बीच रहने वाले गरीब आरोपियों को मनमानी सजाएं दे रही है.।

sadguruji के द्वारा
July 11, 2017

आदरणीय विष्ट जी ! सादर अभिनन्दन ! काफी दिनों बाद मंच पर आये हैं ! पोस्ट से सहमति प्रदर्शित करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद ! आम जनता दबंगों और बाहुबलियों का तो कुछ बिगाड़ नहीं सकती है, लेकिन अपने बीच के छोटे-मोटे अपराधियों पर अपना गुस्सा निकाल रही है ! जनता का गुस्सा और कानून हाथ में लेना दोनों चिंतनीय है ! सादर आभार !

Shobha के द्वारा
July 11, 2017

श्री आदरणीय सद्गुरु जी लेख पढ़ा पढ़ कर तकलीफ हुई यह स्थित बहुत बुरी होती थे जब लोग कानून को अपने हाथ में ले लेते हैं इसका अर्थ यही माना जाता है न्याय प्रणाली से भरोसा उठ गया | न्यायालय के निर्णय बहुत देर से आते हैं लोग इंतजार करते कोर्ट कचहरी के चक्कर काटते थक जाते हैं लेकिन ऐसा उचित नहीं है हमहीं काजी जनता सजा देने वाली | बच्चों के साथ अपराध शर्म नाख है

sadguruji के द्वारा
July 11, 2017

आदरणीया शोभा भारद्वाज जी ! ब्लॉग पर स्वागत है ! आपने सही कहा कि जनता द्वारा कानून को अपने हाथ में लेने का यही अर्थ है कि लोंगो का विश्वास हमारी न्याय प्रणाली से उठ गया है ! मासूम बच्चों के प्रति अपराध शर्मनाक तो है ही, लेकिन लोंगो का कानून हाथ में लेना भी उतना ही शर्मनाक है ! सादर आभार !

sadguruji के द्वारा
July 12, 2017

भीड़तंत्र द्वारा आरोपियों को दी जा रही सजा का वीडियो बनाकर और उसे सोशल मीडिया पर अपलोड करने पर भी पूर्णतः रोक लगनी चाहिए. हमारे लोकतंत्र के लिए यह बहुत चिंता की बात है कि आम जनता का आक्रोश अब हमारे सिस्टम यानि शासन व्यवस्था के प्रति दिनोदिन बढ़ता ही जा रहा है. जो आरोपी बाहुबली हैं, जनता उनका तो कुछ बिगाड़ नहीं पाती हैं, किन्तु अपने बीच रहने वाले गरीब आरोपियों को मनमानी सजाएं दे रही है.

sadguruji के द्वारा
July 12, 2017

आम जनता का कानून व्यवस्था पर से विश्वास दिनोंदिन कम हो रहा है. वो सोचती है कि पता नहीं आरोपी को कब सजा मिलेगी. सजा मिलेगी या नही मिलेगी, यह भी कुछ पता नहीं. आरोपी कहीं पैसा देकर न छूट जाए. दरअसल यही सब हमारे सिस्टम की खामियां हैं, जिन्हे दूर करने की जरुरत है. पीड़ित को जल्दी और संतोषजनक न्याय मिलना चाहिए और अपराधियों को देश के कानून के अनुसार शीघ्र से शीघ्र और सख्त से सख्त सजा मिलनी चाहिए.


topic of the week



latest from jagran